BJP को रोकने के लिए राहुल-केजरीवाल आएंगे एक साथ

मिशन 2019 के लिए जहां एक ओर बीजेपी अपने सहयोगियों को एक साथ एक मंच पर लाने के लिए संघर्ष करती दिखाई दे रही है वहीं दूसरी ओर विपक्ष पूरी शिद्दत से नए साथियों की तलाश में जुटा है। कोशिश की जा रही है कि ये महागठबंधन ऐसा बने की किसी भी सूरत में बीजेपी वापस सत्ता में नहीं आ सके। इसी कड़ी में सारे गिले -शिकवे भूलाकर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी एक साथ आती दिख रही है। दोनों पार्टियों के बीच तीन राज्यों में गठबंधन की बात हो रही है। सबसे दिलचस्प बात ये है कि दिल्ली की शीला दीक्षित की 15 साल की लोकप्रिय सरकार को उखाड़ फेंकने और इससे पहले कांग्रेस के खिलाफ आंदोलन करने वाले अरविंद केजरीवाल कांग्रेस से ही हाथ मिलाने की तरफ बढ़ रहे हैं। बताया जा रहा है कि दिल्ली, पंजाब और हरियाणा में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच गठबंधन हो सकता है।

जानकारी के मुताबिक सीटों के फॉर्मूले पर एक तरह से सहमति बन गई है।दिल्ली की सात लोकसभा सीटों में से चार सीटों पर आम आदमी पार्टी जबकि तीन सीटों पर कांग्रेस लड़ सकती है। इसी तरह पंजाब की 13 सीटों में से आम आदमी पार्टी को चार सीटें मिलेंगी और कांग्रेस को 9 सीटें मिलेगी। फॉर्मूले के तहत हरियाणा में आप को एक सीट मिलेगी और 9 सीटों पर कांग्रेस लड़ेगी।

इस तरह कुल 30 सीटों में आम आदमी पार्टी को 9 सीटें मिलेंगी जबकि कांग्रेस को 21 सीटें मिलेगी। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सभी 7 सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी। बता दें कि साल 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर थी। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का खाता भी नहीं खुल सका था। आप और कांग्रेस के बीच 2019 के लोकसभा चुनाव के पहले गठबंधन हो गया तो दिल्ली में बीजेपी को बड़ा झटका लग सकता है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *