27 सितंबर को उपराष्ट्रपति करेंगे लोकमंथन कार्यक्रम का उद्घाटन

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू रांची में 27 से 30 सितंबर तक आयोजित लोकमंथन कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे। इस कार्यक्रम का आयोजन खेलगांव स्थित बिरसा मुंडा स्टेडियम में हो रहा है। समापन समारोह में लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन मुख्य अतिथि के रूप में भाग लेंगी। यह जानकारी पर्यटन, कला संस्कृति, खेलकूद एवं युवा कार्य विभाग के मंत्री सह लोकमंथन कार्यक्रम के आयोजन समिति के अध्यक्ष अमर कुमार बाउरी ने आज सूचना भवन में मीडिया को संबोधित करते हुए कही।

अमर कुमार बाउरी ने कहा कि लोकमंथन का यह दूसरा संस्करण है। जिसका आयोजन झारखंड में किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में "एक भारत श्रेष्ठ भारत" के निर्माण पर चर्चा की जाएगी। उन्होंने बताया कि लोकमंथन कार्यक्रम का उद्घाटन उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू करेंगे और समापन समारोह में लोक सभा की सभापति सुमित्रा महाजन होंगी। इनके अलावा चार दिनों के कार्यक्रम में देश के कई प्रबुद्ध लोग शामिल होंगे। 26 सितंबर को लोकमंथन से जुड़े एक प्रदर्शनी का उद्घाटन झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष दिनेश उरांव करेंगे। उन्होंने कार्यक्रम में राज्य के सभी लोगों को मीडिया के माध्यम से आमंत्रित किया।

लोकमंथन केन्द्रीय टोली के सदस्य दीपक शर्मा ने बताया कि इस कार्यक्रम में ज्ञान के प्रकाश को उतारने की कोशिश की जाएगी। कार्यक्रम में राष्ट्र को खड़ा करने की कोशिश की जाएगी। प्रज्ञा प्रवाह द्वारा आयोजित यह द्वितीय कार्यक्रम है। यह कार्यक्रम द्विवर्षीय कार्यक्रम है।
उन्होंने कहा कि भारत हमेशा से ज्ञान आधारित देश रहा है। इस बार 'भारत बोध' पर चर्चा की जाएगी। कार्यक्रम की कोशिश है कि पहले हम खुद को जानें। देश की लोकसभा में ज्ञानी लोग होते हैं और राज्यसभा में कर्मशील लोग होते हैं। प्रदर्शनी का उद्घाटन 26 सितंबर को हो रहा है। जिसका उद्धाटन दिनेश उरांव करेंगे वहीं पदमश्री अशोक भगत सहित कई अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस कार्यक्रम में भाग लेंगे।

उन्होंने कहा कि तीन दिनों में तीन विषयों पर चर्चा होगी। पहला है समाज का अवलोकन, दूसरे दिन व्यवस्था का अवलोकन (सेवा का भाव कैसा हो )पर चर्चा होगी। तीसरे दिन विश्व अवलोकन पर चर्चा होगी। इस चर्चा में दुनिया का भारत को देखने के नजरिया पर चर्चा होगी और भारत विश्व के प्रति क्या सोचता है इस पर भी चर्चा होगी। हम प्रकृति की पूजा करते है। लेकिन आज विश्व ग्लोबल वार्मिंग से जूझ रहा है। ऐसे में पूरा विश्व भारत पर नजर गड़ाए हुए है। आज दुनिया अर्थशास्त्र पर चल रहा है। इन विषयों के साथ कला का भी मंचन होगा। अंतिम चर्चा आत्म अवलोकन होगा। इसका उद्देश्य है कि हम खुद को भी जाने। इन सब चर्चा के बीच धुंवा बैंड की प्रस्तुति भी होगी।

उन्होंने कहा कि चार दिनों में कर्म और विचार के माध्यम से भारत के निर्माण की कोशिश की जाएगी। प्रज्ञा प्रवाह की तरफ़ से झारखंड सरकार को धन्यवाद है। एक सवाल के जवाब में दीपक शर्मा ने कहा कि यह पूरे राष्ट्र का कार्यक्रम है। हमारा मंत्र है 'भारत पहला'।
लोकमंथन कार्यक्रम में गिरीश प्रभुणे, विनय सहस्त्रबुद्धे, रामेश्वर मिश्र पंकज, पी कनगसभापति, मनोज श्रीवास्तव, कौशल पंवार, आशीष गुप्ता, बाबा सत्यनारायण मौर्य, हर्षित जैन, गौरी प्रिया, सुदीप्तो सेन, डॉक्टर वंदना शिवा, स्वामी नरसिंहानंद, सर्बानंद सोनोवाल, माधवराव चितले, आचार्य डेविड फ्राले, सोनल मानसिंह, बजरंग लाल गुप्त, विनायक महादेव गोविलकर सहित कई गणमान्य अतिथि अपने विचारों से लोगों को अवगत कराएंगे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *