ठेके वाली नौकरियों में आरक्षण गलत : शरद यादव

जदयू से अलग हुए गुट के नेता एवं राज्यसभा सांसद शरद यादव ने ठेके की नौकरियों में आरक्षण के फैसले का विरोध करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सावधान किया है. राज्य सरकार के फैसले को शरद ने सामाजिक न्याय के खिलाफ करार दिया और कहा कि आरक्षण पर सरकार के मुखिया की नीयत साफ नहीं है.

बिना नीतीश का नाम लिए शरद ने उन पर बड़ा हमला बोला और कहा कि भारत सरकार ने कॉन्ट्रैक्ट वाली नौकरियों में आरक्षण का फैसला कर के संविधान का अपमान किया है.

शरद ने राज्य के पिछड़े वर्ग के संपन्न तबके को अति पिछड़ा वर्ग में शामिल करने के राज्य सरकार के फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि यह गलत है.

बाबासाहेब अंबेडकर ने आरक्षण का प्रावधान स्थाई नौकरी के लिए किया था. ठेके की नौकरियों के लिए नहीं.
शरद में बिहार में महागठबंधन टूटने के लिए नीतीश को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि महागठबंधन नहीं बनता तो नीतीश की सत्ता में वापसी नहीं होती.

शरद ने कहा कि सर्वसमाज की संगत में उन्हें रखने की मैंने बहुत कोशिश की लेकिन कमजोर वर्ग के प्रति उनमें दया नहीं है.

दलितों एवं पिछड़ी जातियों की एकजुटता पर जोर देते हुए शरद ने कहा कि सर्वसमाज के जातियों में बैठे होने के कारण ही दिल्ली पर भाजपा का कब्जा है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *