एक और विवाद में पड़े जदयू सांसद आरसीपी सिंह

ये जदयू में क्या हो रहा है? शराब बंदी की सियासत कर जनता दल यू. एक तरफ जहां राज्य और राज्य के बाहर तारीफें बटोर रहा है, वहीं आये दिन किसी न किसी अवैध शराब कारोबारी को लेकर जदयू नेतृत्व आलोचना का शिकार बन रहा है. अभी बक्सर के एक शराब कारोबारी की मुख्यमंत्री के साथ खिंची तस्वीर का मामला शांत भी नहीं हुआ था कि मुजफ़्फरपुर क्षेत्र से एक दूसरे अवैध शराब कारोबारी का मामला प्रकाश में आ गया है. इस मामले में जदयू सांसद आर. सी. पी. सिंह के साथ आरोपी महेश राय की तस्वीर सुर्खियों में है. महेश राय को सांसद ने न केवल सदस्यता दी थी बल्कि उसे अपने साथ रख पार्टी में उसकी हैसियत भी बढ़ायी थी. कुछ दिनों पहले कई ड्रम अवैध स्पिरिट बरामद हुए जिस मामले में पुलिस ने महेश राय को नामजद अभियुक्त बनाया है.

बक्सर वाले मामले में मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से सफाई दी गयी थी कि सार्वजनिक जीवन में कोई भी नेता के साथ फोटो खिचवा सकता है, हालांकि बाद में उस नेता को जदयू से निलम्बित कर दिया गया था. इस बार भी महेश राय की निलम्बन की तैयारी हो रही है. सांसद की तरफ से एक बार फिर कहा जा रहा है कि महेश राय का पहले से कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं था इसलिए उसे जदयू की सदस्यता दी गयी थी. लेकिन यह कह देने भर से महेश राय वाली कंट्रोवर्सी खत्म नहीं हो जाएगी.

 

 

 

 

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव आर. सी. पी. सिंह पर आरोप लग रहा है कि अवैध शराब के इस कारोबारी पर हुए FIR की कॉपी के साथ जदयू के ही कई नेताओं ने पूरे तथ्य इनके सामने रखे, लेकिन आज तक इस व्यक्ति पर कोई कार्रवाई नहीं हुई. वह खुलेआम घूम रहा है. जदयू के झंडे का इस्तेमाल कर रहा है. अब लोग ये सवाल उठाने लगे हैं कि क्या सांसद की वजह से ज़िला प्रशासन दबाव में है? अगर ऐसा है तो यह जदयू और इसके राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार की छवि और उनके दावों के बिलकुल उलट है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *