जनता से सीधे संवाद की राजनीति करती हैं लुईस मरांडी

संथाल परगना पर बीजेपी की हमेशा नजर रही है इसलिए जब से भाजपा सरकार बनी है, इस इलाके पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। एम्स से लेकर साहिबगंज में बंदरगाह बनाने तक कई ऐसी कई विकास की योजनाएं हैं जिन पर तेजी से अमल किया जा रहा है। इलाके की गरीबी को ध्यान में रखते हुए शिक्षा से लेकर रोजगार बढ़ाने तक का रोड मैप बनाया जा रहा है। केंद्र सरकार और राज्य सरकार की यह कोशिश है कि झामुमो के इस गढ़ को विकास की राजनीति के रास्ते जीता जा सके।

इसी कड़ी में इस क्षेत्र के सर्वांगीण विकास के लिए जुझारू और कुशल नेता लुईस मरांडी को मंत्री बनाया गया और उन्हें महिला विकास,अल्पसंख्यक कल्याण एवं आदिवासी कल्याण विभाग का दायित्व सौंपा गया। इसके बाद इलाके के विकास के लिए कई महत्वपूर्ण पहल किए गए हैं। देखा जाए तो लुईस मरांडी जिस प्रकार इस क्षेत्र की जनता से सीधा संवाद कर रही है, उनके साथ इमोशनल कनेक्ट कर रही हैं, उससे सरकार ही नहीं बल्कि भारतीय जनता पार्टी भी लोगों के बीच पैठ बनाने में कामयाब रही है। क्षेत्र के दूर-दराज के स्कूलों से लेकर सड़क या अन्य किसी भी सरकारी कामों की मॉनिटरिंग वह स्वयं करती हैं, लोगों से मिलकर सरकार द्वारा दी जा रही विकास योजनाओं को सही व्यक्तियों तक पहुंचाने के लिए वह खुद गांव-गांव, पंचायत-पंचायत, टोला-टोला जाकर लोगों से मिलकर इन योजनाओं को सही तरीके से किए जाने पर विमर्श करती हैं। उनकी देखरेख करती हैं, ताकि इस पिछड़े इलाके का कायाकल्प हो सके। आम राजनीतिज्ञों से उलट मंत्री भावनात्मक रूप से लोगों से कनेक्ट करती हैं। अभी 1 जनवरी का ही वाक़या लीजिए, अन्य नेता जहाँ बाहर छुट्टियाँ मना रहे थे, वहीं वो अनाथालय में मासूमों को दुलार रही थी। यही अप्रोच उन्हें औरों से अलग करती है।

जानकारों की मानें तो इस इलाके में जिस प्रकार बीजेपी और खासकर मंत्री लुईस मरांडी ने विकास कार्यों की बदौलत अपनी जो छवि बनाई है, उससे जनता उन्हें तरजीह ही नहीं दे रही बल्कि आने वाले चुनाव में भी यह नजर आने वाला है। देखा जाए तो कहीं न कहीं यही कसक इस इलाके पर एकछत्र राज करने वाले झामुमो की है कि वह बार-बार बीजेपी के नेता और खास तौर पर लुईस मरांडी पर हमलावर रुख अपनाए हुए है। झामुमो जानता है कि लुईस मरांडी अपनी छवि और कार्यकुशलता की बदौलत झामुमो की नींव हिला सकती हैं, मंत्री का आदिवासी और ईसाई वोटों पर गहरा प्रभाव है। उनमें माद्दा है कि वह जेएमएम की राजनीतिक जमीन खिसका सकती हैं। यही वजह है की बीजेपी लुईस मरांडी पर इतना विश्वास करती है और उनसे इस क्षेत्र की जनता के साथ खड़े होने होने की अपेक्षा करती है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *