गरीबों, पिछड़ों के विकास के लिए सरकार प्रतिबद्धः सीएम

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि अनुसूचित जाति, जनजाति, गरीब एवं पिछड़ों के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। वर्ष 2022 तक समृद्ध झारखंड का निर्माण करना सरकार का लक्ष्य है। संकल्प से ही सिद्धि मिलती है। हम सभी का एक संकल्प होना चाहिए कि राज्य में कोई गरीब ना हो, अशिक्षित ना हो, अस्वस्थ ना हो और बेघर ना हो। राज्य सरकार द्वारा पिछले 4 वर्षों में कई लोक कल्याणकारी योजनाएं लागू की गई हैं। राज्य के गरीब परिवारों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर दिए जा रहे हैं। वर्ष 2019 तक पूरे राज्य को खुले में शौच से मुक्त बनाना सरकार का लक्ष्य है। स्वच्छ झारखंड, स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने के लिए राज्य सरकार प्रयास कर रही है। वर्ष 2019 तक झारखंड के सभी गरीब परिवारों के घरों में शौचालय निर्माण किया जाएगा। उक्त बातें मुख्यमंत्री ने आज रांची के धुर्वा स्थित शहीद मैदान में आयोजित अखिल भारतीय स्तर के समाजिक महाधिवेशन कार्यक्रम के अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड की महिलाएं बहुत ही मेहनती और ईमानदार हैं। महिलाओं के समग्र विकास हो इस हेतु सरकार कृतसंकल्पित है। सरकार द्वारा वैसे गरीब परिवार जिनके पास एलपीजी कनेक्शन नहीं है उन्हें उज्ज्वला योजना के तहत एलपीजी कनेक्शन से जोड़ा जा रहा है। झारखंड पहला ऐसा राज्य है जहां एलपीजी की पहली रिफिलिंग मुफ्त में की जा रही है। सरकार का यह लक्ष्य है कि वैसे जनजाति आदिवासी गरीब तबके के लोग जिन्हें विकास की मुख्यधारा से जोड़ने की आवश्यकता है उन्हें भी एलपीजी गैस कनेक्शन दिया जाएगा। पूरे राज्य में अभी तक 13 लाख एलपीजी कनेक्शन दिए जा चुके हैं और बाकी 15 लाख परिवारों तक गैस कनेक्शन पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 4 वर्षों में गरीबों को भी देश की अर्थव्यवस्था से जोड़ा गया है। इसका एक बड़ा उदाहरण है कि आज के वर्तमान समय में गरीब परिवारों का भी बैंक खाता जनधन योजना के तहत खुलवाया गया है। उन्होंने महिलाओं से अपील की कि वे समूह बनाकर स्वरोजगार से जुड़े सरकार हर संभव उन्हें मदद करेगी। महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने हेतु राज्य सरकार कई तरह के कार्यक्रम चला रही है। राज्य में अब रेडी टू ईट कार्यक्रम को भी महिलाएं ही चलाएंगी। आने वाले समय में सरकार कई योजनाओं को महिलाओं को स्वरोजगार से जोडने हेतु ला रही है। राज्य में महिलाएं समूह बनाकर हवाई चप्पल निर्माण, उद्योग, जूता निर्माण के इत्यादि कार्यों से भी जुड़ कर स्वावलंबी बनेंगी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *