तेजस्वी के लिए लिटमस टेस्ट है उपचुनाव

-उपचुनाव के प्रचार का आज आखिरी दिन, 11 को होगा चुनाव

बिहार में तीन सीटों पर उपचुनाव के प्रचार का आज आखिरी दिन है। अररिया संसदीय सीट के अलावा जहानाबाद और भभुआ विधानसभा सीटों पर आगामी 11 मार्च को चुनाव होना है। सूबे के सभी दलों के नेता अपने-अपने उम्मीदवारों को जीताने के लिए पूरे जोश-शोर से चुनाव प्रचार में लगे हैं।

राजद नेता और पूर्व मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भी इन सभी सीटों पर खूब प्रचार किया है, अररिया संसदीय सीट और जहानाबाद विधानसभा सीट पर विशेष फोकस किया है ताकि इन सीटों पर कब्जा बना रहे। बता दें कि ये पहली बार है कि राज्य में चुनाव प्रचार से राजद सुप्रीमो लालू यादव दूर हैं। वे रांची स्थित बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं। जिसके कारण राजद की तरफ से उपचुनाव प्रचार की कमान तेजस्वी यादव ने ही संभाल रखा है। हालांकि देखा जाय तो उन्होंने अपनी पहली परीक्षा के लिए काफी मेहनत की है, दिन रात पार्टी कार्यकर्ताओं से लेकर नेताओं से बातचीत कर आगे की रणनीति बना रहे हैं वहीं विरोधियों पर भी खूब हमले कर रहे हैं। इसलिए अगर राजद को इन सीटों पर सफलता मिलती है तो तेजस्वी यादव के लिए यह एक बड़ी कामयाबी होगी। उनका राजनीतिक कद भी बढ़ेगा। वहीं उनके विरोधियों का भी कहना है कि उपचुनाव तेजस्वी के लिए लिटमस टेस्ट है जिसमें यह पता चल जाएगा कि लालू यादव की गैरमौजूदगी में वह अपने पार्टी की नैया पार लगा पाएंगे या नहीं।

जदयू प्रवक्ता संजय सिंह ने राजद पर तंज कसते हुए कहा कि तेजस्वी यादव को अपने परिवार की बेनामी संपत्ति को बचाना है, ना की चुनाव में जीत दिलाना है। बहरहाल, उपचुनाव से पहले बिहार की सियासी गलियारों में उठापटक हो चुकी है। जीतन राम मांझी ने जहां महागठबंधन का समर्थन कर दिया वहीं पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चौधरी अपने तीन एमएलसी के साथ जदयू में शामिल हो गए।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *