हेमंत बताएं केजरीवाल बंधुओं से उनका क्या संबंध हैः BJP

प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष समीर उरांव ने झामुमो पर हमला बोला है, कहा है कि झामुमो पहले ये बताये कि केजरीवाल बंधुओं के साथ उसका क्या संबंध है। उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन इसका खुलासा करें। झामुमो भले ही अपना 39वां स्थापना दिवस मना रहा है, पर झामुमो ने राज्य में कई कारनामें किये हैं। झामुमो जब-जब सरकार में रहा है, तब-तब केजरीवाल बंधु का नाम सामने आया है। झामुमो बताये कि केजरीवाल बंधु कौन हैं। हेमंत सोरेन से इनका क्या संबंध है। समीर उरांव शुक्रवार को प्रदेश कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि हेमंत सोरेन के लिए पार्टी फंड रेजिंग का काम कर रहे रवि केजरीवाल, रमेश केजरीवाल, राजीव अग्रवाल और प्रेमनाथ माली कौन हैं। इन लोगों के साथ सोरेन परिवार का क्या संबंध है। केजरीवाल, नगारे सुरेश कुंडेलका राव, हेमंत सोरेन एवं बसंत सोरेन का शेल कंपनी में कितना हिस्सा है। उन्होंने कहा कि भाजपा सहित अन्य पार्टियां लगातार झामुमो से केजरीवाल बंधु का रिश्ता क्या है, यह बताने की मांग करती आ रही है। लेकिन सोरेन परिवार इस पर चुप्पी साधे हुए है। उन्होंने कहा कि पूर्व में भी कांग्रेस नेता संजय निरूपम और प्रदेश कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष सुखदेव भगत ने भी झामुमो पर रवि केजरीवाल के विरूद्ध पार्टी फंड रेजिंग का आरोप लगा चुके हैं। उन्होंने फर्जी शेल कंपनी की जांच कराने की मांग की है। केजरीवाल पर 2013 में लगे आरोपों पर हेमंत सोरेन जवाब दें कि क्यों आरके अग्रवाल से सोरेन परिवार ने पैसे लिये थे, जिसमें सीता सोरेन पर चार्जशीट भी फाइल है। उन्होंने कहा कि जब 2013 में झामुमो की सरकार थी, तो भाजपा नेता सरयू राय ने केजरीवाल बंधु पर कई आरोप लगाये थे। लेकिन इसकी जांच सिर्फ इसलिए नहीं करायी गयी, क्योंकि केजरीवाल बंधु से उनके व्यावसायिक संबंध थे।

मौके पर भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रामकुमार पाहन ने कहा कि झामुमो ने राज्य की जनता को ठगने का काम किया है। झामुमो बाहरी और भीतरी के नाम पर राजनीति कर रहा है। लेकिन आज जनता उसकी सच्चाई जान चुकी है। जिसका जवाब जनता आगामी चुनाव में देगी। उन्होंने कहा कि झामुमो की जब यहां सरकार थी, तो बाहरी लोगों को राज्य सभा भेजा गया। झामुमो हमेशा स्थानीय नीति की बात करती है। वर्तमान सरकार ने स्थानीय नीति परिभाषित किया है, लेकिन जब झामुमो और भाजपा की सरकार थी, तो स्थानीय नीति के मुद्दे पर झामुमो ने अर्जुन मुंडा सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था। झामुमो ने बालू बेचने का काम किया और फर्जी कंपनियां बनाकर राज्य को लूटने का काम किया। प्रेसवार्ता में प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश, प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव, जेबी तुबिद, शिवपूजन पाठक सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *