पीएम मोदी के सारे वादे झूठे,पिछले पांच साल में पांच दिन भी अच्छे दिन नहीं रहे : रावड़ी देवी

लोकसभा चुनाव के मद्दे नज़र अब राजनीतिक दल एक दूसरे पर पहले से और अधीक हमलावर हो गए हैं. बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री और आरजे़ी नेता रावड़ी देवी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला है. रावड़ी देवी ने पीएम मोदी को बिहार आने से पहले अपने पुराने वीडियो को देख लेने की सलाह दे दी है. साथ कहा है कि पिछले पांच साल में पांच दिन भी अच्छे दिन नहीं रहे.

रावड़ी देवी ने कहा, ”सुनो, मोदी जी, ‪कल बिहार आने से पहले अपने 2014 लोकसभा और 2015 विधानसभा चुनाव के भाषण याद कर लीजिएगा या फिर ङ्म४ळ४ुी पर देख लीजिएगा. आपने कैसे-कैसे आसमानी वादे किए थे, कैसी घोषणाएं की थी? विशेष राज्य का दर्जा और विशेष पैकेज पर मुंह ज़रूर खोलिएगा.

रावड़ी देवी ने आगे कहा, ” ‪और हां, हमें गाली देना बिल्कुल भी नहीं भूलना. पांच साल में पांच दिन के लिए भी देश में अच्छे दिन नहीं आए हैं. बाक़ी मोदी जी का नक़ली प्रचार-प्रसार, स्टंटबाज़ी-गप्पेबाज़ी और पब्लिसिटी तो 24*7*365 डेज़ नॉनस्टॉप चल रही थी, तो भक्तों विद-आउट गाली, ठोको ताली.”

बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष नीतीश कुमार मंगलवार से लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे.नीतीश सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गया और जमुई लोकसभा क्षेत्र में मंच शेयर करेंगे. गया से इस बार जनता दल यूनाइटेड के उम्मीदावर विजय मांझी मैदान में हैं, वहीं जमुई से लोक जनशक्ति पार्टी के संसदीय दल के अध्यक्ष चिराग पासवान दूसरी बार मुकाबले में हैं. दोनों जगहों पर प्रधानमंत्री मोदी सहयोगी दलों के उम्मीदवार के लिए वोट मांग रहे हैं, इसलिए इन दलों के अध्यक्ष भी मंच पर मौजूद रहेंगे.

बिहार में कब-कब डाले जाएंगे वोट?

पहला चरण, 11 अप्रैल- औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई.

दूसरा चरण, 18 अप्रैल- किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, भागलपुर और बांका.

तीसरा चरण, 23 अप्रैल- झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा और खगड़िया.

चौथा चरण, 29 अप्रैल- दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगूसराय और मुंगेर.

पांचवां चरण, 6 मई- सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारण और हाजीपुर.

छठा चरण, 12 मई- वाल्मीकिनगर, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सीवान और महाराजगंज.

सातवां चरण, 19 मई- नालंदा, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, जहानाबाद और काराकाट.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *