मई 23, 2024

Rajneeti Guru

राजनीति, व्यापार, मनोरंजन, प्रौद्योगिकी, खेल, जीवन शैली और अधिक पर भारत से आज ही नवीनतम भारत समाचार और ताज़ा समाचार प्राप्त करें

SEBI ने राजनीति गुरु पर बाप ऑफ़ चार्ट को सिक्योरिटी मार्केट से बैन किया, 17 करोड़ रुपये का जुर्माना – मनी कंट्रोल

SEBI ने राजनीति गुरु पर बाप ऑफ़ चार्ट को सिक्योरिटी मार्केट से बैन किया, 17 करोड़ रुपये का जुर्माना – मनी कंट्रोल

सेबी ने मोहम्मद नसीरुद्दीन अंसारी को सिक्योरिटी मार्केट से बैन कर दिया है। यह निर्णय संख्या SANT/0SI/PK3 के तहत लिया गया है। वे ‘बाप ऑफ चार्ट’ नामक यू-ट्यूब चैनल के मालिक हैं और शेयर बाजार में खरीद/बिक्री से जुड़ी सलाह देते थे। सेबी ने अंसारी के खिलाफ एक अंतरिम आदेश जारी किया है और उन्हें बाजार में 17.2 करोड़ रुपये जमा कराने का आदेश दिया गया है।

उन पर लगे आरोप हैं कि अंसारी ने ट्रेडिंग सिफारिशें प्रदान कीं और उसके लिए शुल्क लिया। इसके अलावा, उन्हें आरोप है कि वे ग्राहकों को भ्रामक जानकारी देकर कोर्स खरीदने के लिए प्रेरित कर रहे थे।

सेबी की जांच से पता चला है कि अंसारी को 2.89 करोड़ रुपये का शुद्ध ट्रेडिंग लॉस हुआ। यह मामला फिनफ्लूएंसर्स पर लगाम लगा देने की भी कोशिश की जा रही है। सेबी ने इस मामले की जांच करने का निर्णय लिया है और जल्द ही तुम्हें नतीजे प्राप्त होंगे।

यह वर्तमान में सबसे बड़ा विवादास्पद मुद्दा है और बाजार में इसका बड़ा प्रभाव होगा। उम्मीद की जा रही है कि यह मुद्दा शीघ्र ही हल हो जाएगा और विश्वसनीय व्यापारियों के लिए बाजार में फिर से आत्मविश्वास बढ़ेगा।

यह विवाद अनुसार, सेबी ने एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है और सिक्योरिटी मार्केट की सुरक्षा और व्यापारिक नियमों की पालना के लिए एक सन्देश भी भेजा है। सीमित और नियमित निगरानी के माध्यम से, सेबी भारतीय शेयर बाजार में सुरक्षितता को सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहा है।

यहाँ तक कि सेबी खुले ट्रेडिंग में ज्यादा लोगों को साझा अंश लेने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है और ट्रेडिंग साझा अनुभव को उन्नत करने के लिए अद्यतित तकनीकी उपाय ले रहा है। सेबी का मकसद है कि यह सुनिश्चित करें कि निवेशकों को भ्रामक और खतरनाक तकनीकों से बचाया जाए। इसके लिए सेबी शिकायतों की जांच करता रहता है और विस्तार से संचालित अभियांत्रिकी सुरक्षा प्रदान करता है।

READ  सोना-चांदी के आज के रेट 10 नवम्बर 2023: जानिए गोल्ड-सिल्वर कीमत क्या है आज - राजनीति गुरु

यह स्पष्ट है कि सुरक्षितता और व्यापारिक नियमों की पालना बहुत महत्वपूर्ण है। सेबी के निर्णय द्वारा सिक्योरिटी मार्केट में निवेशकों की सुरक्षितता बनाए रखा जा सकेगा और विश्वसनीयता को बढ़ावा मिलेगा। यहाँ तक कि तत्काल प्रभाव में निवेशकों के लिए इसमें अच्छी समाचार है।

वर्तमान में सेबी फिनफ्लूएंसर्स पर लगाम लगा रहा है और अंसारी के मामले की जांच कर रहा है। विस्तृत जांच के बाद, फांस-चढ़ाव का निर्णय लिया गया है। यह फैसला सेबी की शक्तिशाली और निष्पक्ष वाणी को दर्शाता है, जो सदैव निवेशकों के हित में काम करती है।