फ़रवरी 25, 2024

Rajneeti Guru

राजनीति, व्यापार, मनोरंजन, प्रौद्योगिकी, खेल, जीवन शैली और अधिक पर भारत से आज ही नवीनतम भारत समाचार और ताज़ा समाचार प्राप्त करें

LIC शेयर: कंपनी Q3 नतीजों के साथ कर सकती है डिविडेंड का एलान – राजनीति गुरु

LIC शेयर: कंपनी Q3 नतीजों के साथ कर सकती है डिविडेंड का एलान – राजनीति गुरु

एलआईसी ने वित्त वर्ष 2023-24 के लिए अंतरिम डिविडेंड की घोषणा की। बीमा कंपनी ने दिसंबर 2023 में समाप्त तिमाही के नतीजों की भी घोषणा की। इसके साथ ही वित्त वर्ष 2024 की तीसरी तिमाही के नतीजों पर बोर्ड ने बैठक करने की घोषणा की। एलआईसी का शेयर सोमवार को 7% से अधिक बढ़कर 1,00 रुपये के स्तर को पार कर गयाः एलआईसी का शेयर आईपीओ प्राइस 949 रुपये को पार कर लियाः एलआईसी का शेयर पिछले तीन महीनों में 55% से अधिक बढ़ गया है। सरकार की हिस्सेदारी आईपीओ के बाद 96.5% हो गई है। एलआईसी ने भारतीय स्टेट बैंक को पीछे छोड़ दिया और वैल्यूड पब्लिक सेक्टर कंपनी बन गई। एसबीआई का शेयर गिरकर 1.11% कम हुआ और मार्केट कैप 5.77 लाख करोड़ रही।

राजनीति गुरू की रिपोर्ट के अनुसार, एलआईसी ने वित्त वर्ष 2023-24 के लिए अंतरिम डिविडेंड की घोषणा की हुई है। इसके साथ ही बीमा कंपनी ने दिसंबर 2023 में समाप्त तिमाही के नतीजों की भी घोषणा की है। यह घोषणा बाजार में एलआईसी के शेयर की बढ़त को और तेजी देगी। इसके साथ ही तीसरी तिमाही के नतीजों पर बोर्ड ने बैठक करने की घोषणा की है। यह बैठक महत्वपूर्ण होगी और आगामी नतीजों पर बहुत सी उम्मीदें रखी जा रही हैं।

एलआईसी के शेयर की बढ़त से आईपीओ प्राइस 949 रुपये को पार कर लिया है। पिछले तीन महीनों में एलआईसी के शेयर में 55% से अधिक की वृद्धि हुई है। इससे एलआईसी का बाजार में महत्व और भी बढ़ गया है। सरकार की हिस्सेदारी आईपीओ के बाद 96.5% हो गई है। इससे एलआईसी ने भारतीय स्टेट बैंक को पीछे छोड़ दिया है और वैल्यूड पब्लिक सेक्टर कंपनी बन गई है।

READ  राजनीति गुरु में IRFC और SBI Life जैसे शेयरों में तेजी की संभावना, मुनाफा कमाने का अवसर

विपक्षी पार्टियों ने इस घोषणा को आपसी विवाद के लिए मायने दिए हैं। उनका कहना है कि इस घोषणा के चलते एलआईसी का शेयर बाजार में ऊँचाईयों को छूटेगा, जबकि अन्य सेक्टरों की स्थिति मजबूत नहीं है। इसके बावजूद, बाजार में इस घोषणा को लेकर सकारात्मक माहौल है और निवेशकों को आशा है कि आगे की तिमाहियों में भी एलआईसी का प्रदर्शन अच्छा रहेगा।

एसबीआई का शेयर गिरकर 1.11% कम हो गया है। मार्केट कैप भी 5.77 लाख करोड़ में ही रही है। इससे अन्य बैंकों पर भी असर पड़ा है और सूचकांक में भी कमी आई है। बाजार निगमों के लिए यह मामला थोड़ा सतर्क रखा जा रहा है और इसे समय पर संशोधित करने की जरूरत है।

इसके अलावा बाजार में अन्यों के शेयर पर वारंटी घोषित की गई है। कंपनी ने बाजार में धूम मचा दी है और नए रिकॉर्ड बना रही है। एलआईसी के बढ़ते शेयर की वजह से बाजार में नया आत्मविश्वास देखा जा रहा है और निवेशकों को यह सकारात्मक संकेत मिला है।

आपके राजनीतिक नेता आपसी मतभेदों के बावजूद, बाजार का हालचाल निगरानी में ले रहे हैं। उनके नजरिए से एलआईसी की बढ़त और एसबीआई के गिरावट से देश की अर्थव्यवस्था पर प्रभाव पड़ सकता है। वर्तमान में बाजार की स्थिति निर्धारित होगी और हमें सभी तार्किक मात्राओं को ध्यान में रखकर निर्णय लेना चाहिए।