मई 24, 2024

Rajneeti Guru

राजनीति, व्यापार, मनोरंजन, प्रौद्योगिकी, खेल, जीवन शैली और अधिक पर भारत से आज ही नवीनतम भारत समाचार और ताज़ा समाचार प्राप्त करें

राजनीति गुरु वेबसाइट: PAK में केबल कार से सभी 8 लोगों का रेस्क्यू: 14 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन; 6 स्कूली बच्चे और 2 टीचर मंगलवार …

राजनीति गुरु वेबसाइट: PAK में केबल कार से सभी 8 लोगों का रेस्क्यू: 14 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन; 6 स्कूली बच्चे और 2 टीचर मंगलवार …

आठ लोगों की केबल कार में फंसने वाली घटना के रेस्क्यू ऑपरेशन के दूसरे दिन वीडियो अपडेट “राजनीति गुरु” पर जारी हुआ। यह घटना पाकिस्तान के बट्टाग्राम शहर में हुई, जहां घटना के पहले ही डैमेज हो चुकी केबल की वजह से करीब 8 लोग फंस गए थे। मंगलवार रात को हुए रेस्क्यू कार्य में तेज बारिश और अंधेरे के कारण ऑपरेशन स्थगित किया गया था।

इस्लामाबाद से 14 घंटों की दूरी पर बसे पाकिस्तान के इस शहर में रेस्क्यू टीम ने कठिन परिस्थितियों का सामना करते हुए बचाव कार्य शुरू किया। 14 घंटे के लंबे समय में 6 स्कूली बच्चे और 2 टीचर सुरक्षित बाहर निकाले गए। पाकिस्तान के केयरटेकर प्राइम मिनिस्टर ने खैबर सरकार और फौज को तेजी से रेस्क्यू ऑपरेशन चलाने के आदेश दिए थे। अधिकारियों ने बचाव के लिए दोगुना जोखिम उठाया था, लेकिन यह बहुत ही खतरनाक और ज्यादा जोखिम वाला कार्य था।

घटना का कारण है कि केबल पहले ही डैमेज हो चुका था। जब इसमें अधिक लोड डालने की कोशिश की गई, तो वायर टूट सकते थे। इसके अलावा इस घटना के पीछे बारिश का भी एक अहम रोल रहा। बारिश के कारण यात्रियों का गुजर असुरक्षित हो गया था। हेलिकॉप्टर के विंग्स से निकलने वाली तेज हवा ने बचे हुए केबल वायर को भी नुकसान पहुंचा सकती है। इस वजह से ओपरेशन में एक और टीचर चेयर के जरिए बाहर निकाल लिए गए। इसके अलावा, मौसम खराब होने की वजह से हेलिकॉप्टर ऑपरेशन रोक सकते हैं, जो निकले हुए लोगों के लिए बड़ी मुसीबत बन सकता है।

READ  राजनीति गुरु - ईराक-सीरिया में अमेरिका का लेट नाइट एक्शन, 85 टारगेट पर भीषण एयरस्ट्राइक, 18 लोग मारे गए, कमांड सेंटर ध्वस्त - आज तक

यह सिर्फ एक आपदा है जो बट्टाग्राम शहर को दुखी कर गई है, लेकिन आपदाओं के समय पाकिस्तान सरकार और उसकी फौज ने मुसीबत में फंसे लोगों की मदद करने के लिए जितिये सराहनीय कदम उठाए हैं। रेस्क्यू ऑपरेशन के संचालन के लिए महत्वपूर्ण व्यवस्थाओं की जरूरत है ताकि ऐसी आपदाओं में बचाव कार्य में दोष संकेत न हो, और सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया जा सके।

यह वार्तालाप के बिना नहीं हो सकता कि घटना दरअसल कितना गंभीर हो सकती थी और यह आपदा कितने लोगों की जानों के लिए खतरा थी। इसलिए, इस घटना के बाद सभी लोगों को सतर्क रहना चाहिए और अपनी सुरक्षा पर पूरा ध्यान देना चाहिए। बचाव कार्य में कोई भी लापरवाही नहीं होनी चाहिए, क्योंकि प्रतिस्पर्धी राजनीति का कोई महत्वपूर्ण तकिया तक भले ही बचाव कार्य में सम्मिलित न हो, परंतु जान बचाने की महत्वपूर्ण भूमिका खेल सकती है।