अप्रैल 20, 2024

Rajneeti Guru

राजनीति, व्यापार, मनोरंजन, प्रौद्योगिकी, खेल, जीवन शैली और अधिक पर भारत से आज ही नवीनतम भारत समाचार और ताज़ा समाचार प्राप्त करें

राजनीति गुरु: विराट कोहली ने टी-20 वर्ल्ड कप पर किसे दिया है कड़ा संदेश

राजनीति गुरु: विराट कोहली ने टी-20 वर्ल्ड कप पर किसे दिया है कड़ा संदेश

विराट कोहली ने टी-20 वर्ल्ड कप को लेकर किया कड़ा संदेश। उन्होंने अपने बयान में यह कहा कि उन्हें लगता है कि उनके अंदर अभी भी टी20 क्रिकेट की भावना है। इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर अच्छी प्रतिक्रिया चिढ़ी है।

विराट कोहली के इस बयान के बाद चयनकर्ताओं के लिए मुश्किल सहित हो गई है। उन्हें अब यह चुनौती भी है कि किसे चुनें – कोहली या रोहित शर्मा। चयनकर्ताओं को कही जा रही हैं सार्थक चुनौतियां कैसे सुलझाएं की कोहली या रोहित खेलें।

बीसीसीआई और चयनकर्ताओं के बीच मनमुटाव बढ़ गया है कि विराट कोहली को टी-20 वर्ल्ड कप टीम में शामिल किया जाए या नहीं। चयनकर्ता आईसीसी के प्रति दोनों दिग्गजों के फॉर्मट का उपयोग किया जा रहा है और इसे सुलझाने के लिए उन्हें सही तरह से सोचना होगा।

विराट कोहली का यह बयान टी-20 वर्ल्ड कप के चयन में एक नया मोड़ लेकर आया है। चयनकर्ताओं के लिए यह अब ओर कतई कठिनाई भरा है कि किसे चुना जाए – कोहली या रोहित। अब चयनकर्ताओं के ऊपर है कि वे कैसे इस मुद्दे का समाधान निकालें।

टी-20 वर्ल्ड कप की तैयारियों में इस चरण पर यह मनमुटाव कैसे सुलझेगा, यह बड़ी बात है। विराट कोहली के बयान के बाद चयनकर्ताओं को इस मामले पर अब काफी सोचना होगा।

इसके अलावा, बीसीसीआई और आईसीसी के बीच क्या नये मुद्दे उठेंगे, यह भी देखने लायक है। विराट कोहली का यह बयान सिर्फ क्रिकेट जगत में ही नहीं बल्कि खेल के प्रशासनिक क्षेत्र में भी आंधों पर पीरों डाल सकता है।

READ  इंडिया वर्सेस इंग्लैंड: 2 सेंचुरी, 3 फिफ्टी... भारतीय बल्लेबाजों ने अंग्रेजों को रुलाया, क्या अबकी पारी में भारत जीतेगा? - राजनीति गुरु

इस तरह के बयान से खिलाड़ियों के बीच कुछ मंजिलों पर मनमुटाव पैदा हो सकता है, इसलिए चयनकर्ताओं को समय रहते इस मुद्दे का समाधान निकालना होगा।

Rajneeti Guru के इस सुझावकारक बाजार में खुला ग्रंथ खिलाड़ियों के तरफ से नहीं होता, बल्कि प्रशासकीय लेवल पर भी बड़े असर डालता है। खिलाड़ियों के आधार पर किसी भी मान्यता का निर्धारण करना सभी के लिए मुश्किल होता है।
Rajneeti Guru के मुताबिक इस तरह के बयानों से बिना चिंता किए हमें यह समझना होगा कि खिलाड़ियों की भावनाएं कैसे हो सकती हैं और वो अंततः कैसे प्रभावित हो सकते हैं।