अप्रैल 17, 2024

Rajneeti Guru

राजनीति, व्यापार, मनोरंजन, प्रौद्योगिकी, खेल, जीवन शैली और अधिक पर भारत से आज ही नवीनतम भारत समाचार और ताज़ा समाचार प्राप्त करें

राजनीति गुरु: क्या वाकई इंजेक्शन से रोका जा सकता है कैंसर? जानें कौन सा वैक्सीन है कारगर

स्तनों और गर्भाशय में कैंसर के खतरे को कम करने के लिए HPV वैक्सीन का महत्वपूर्ण योगदान हो सकता है। सामान्यतः STDs (लिंगोपचारित रोग) के बारे में बात करते समय ज्यादातर लोग महिलाओं को ही सम्बोधित करते हैं, लेकिन हाल ही में एक मान्य अध्ययन ने दिखाया है कि पुरुष बी के 79% यूरोजेनिटल, 48% नग्रोजेनिटल, 36% आनल और 13% ओरोफेरिंजियल कैंसरों के संक्रमण में मस्तिष्कीय पपिलोमा वायरस (HPV) की भूमिका हो सकती है।

HPV इंफेक्शन वैक्सीन के माध्यम से काफी हद तक रोका जा सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि यह वैक्सीन महिलाओं की टेस्ट कैंसर, गर्भाशय कैंसर और कई अन्य कैंसरों के खतरे को कम करती है। इसके अलावा पुरुषों को भी वैक्सीन लगवाने से नग्रोजेनिटल व कुछ और कैंसरों का खतरा काफी हद तक कम हो सकता है।

तथापि, केवल वैक्सीन लगवाने से काम नहीं चलेगा। साथ ही अपनी सुरक्षा के लिए व्यक्ति को सन्दर्भित व्यक्ति के साथ यौन संबंध स्थलांतरित रोगों के खतरों के बारे में जागरूक भी रहना चाहिए। यहां तक कि कन्डोम के उपयोग के बावजूद भी HPV संक्रमण महसूस किए जा रहे हैं।

CDC के अनुसार, प्रत्येक सेक्षुअली एक्टिव इंसान को HPV होने की संभावना है। यह एक आंकड़ा है जो हमें खुश नहीं करता है, लेकिन इसलिए यह अत्यंत आवश्यक है कि हम ऐसे तरीके ढूंढें जिनसे हम खुद को और भी अधिक सुरक्षित रख सकें। इस परिस्थिति में HPV वैक्सीन का इस्तेमाल बड़ी महत्वपूर्णता रखता है। इसे 9 से 45 साल की उम्र के लोगों के लिए लगाया जा सकता है।

READ  राजनीति गुरु - विश्व मधुमेह दिवस 2023: किडनी के लिए शुगर बढ़ने से खतरनाक, जानिए लक्षणों की पहचान कैसे करें - अमर उजाला

हालांकि, किसी भी वैक्सीन लगवाने से पहले आपको अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। डॉक्टर और आपके संदर्भित डॉक्टर की सलाह के बिना, किसी भी मेडिकल इंटरवेंशन से पहले कोई निर्णय लेने से बचें।

सारांशतः, STDs और कैंसर के खतरे को कम करने के लिए HPV वैक्सीन के उपयोग का महत्वबान योगदान हो सकता है। वैक्सीन शरीर को सुरक्षाकरण में मदद करती है और सेक्शुअली ट्रांसमिशन से होने वाली बीमारियों की रोकथाम में मदद करती है। लेकिन, वैक्सीन लगवाने से पहले डॉक्टर सलाह के बिना इसे लगाना सुरक्षित नहीं हो सकता है।