फ़रवरी 25, 2024

Rajneeti Guru

राजनीति, व्यापार, मनोरंजन, प्रौद्योगिकी, खेल, जीवन शैली और अधिक पर भारत से आज ही नवीनतम भारत समाचार और ताज़ा समाचार प्राप्त करें

जॉर्डन ड्रोन हमला: मारे गए अमेरिकी सैनिकों की पहचान हुई, बाइडन ने कहा- हमले का करारा जवाब दिया जाएगा – राजनीति गुरु

जॉर्डन ड्रोन हमला: मारे गए अमेरिकी सैनिकों की पहचान हुई, बाइडन ने कहा- हमले का करारा जवाब दिया जाएगा – राजनीति गुरु

‘राजनीति गुरु’ नवीनतम समाचार: जॉर्डन में अमेरिकी सैनिकों पर ड्रोन अटैक

जॉर्डन के राजधानी अम्मान में चिंता भरे मोमबत्ती जली है क्योंकि अब तक एकमात्र अंतर्राष्ट्रीय खबरों के तहत, अमेरिकी सैनिकों पर हुए एक ड्रोन हमले के बाद तीन अमेरिकी सैनिक मारे गए और कई लोगों को घायल किया गया है। इस हमले को लेकर अब तक कोई भी संघर्षरत समूह जिम्मेदारी स्वीकार नहीं कर चुका हैं।

इस हमले में जिन तीन सैनिकों की मौत हुई हैं, उनके पहचान करके अब तक सैन्य अधिकारियों को सचमुची शर्मिंदगी का अनुभव हो रहा है। मारे गए सैनिकों के नाम विलियम जेरोम रिवर, कैनेडी लाडन सैंडर्स और ब्रियोना अलेक्ज़ोंड्रिया मोफेट हैं। इन वीरों का बलिदान देशभक्ति और वीरता के प्रतीक माना जाता है।

अमेरिकी सरकार ने एक बयान जारी करके कहा है कि यह हमला अपराध का कार्य है और इस पर मार्मिक कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही, विकसित देशों के प्रशासनों ने भी इस हमले को कड़ी निंदा की है और क्षतिग्रस्तों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

इस घटना के बाद भारतीय प्रधानमंत्री ने भी अपनी चिंता व्यक्त की है और उम्मीद की है कि अपने फ़ौजी सहयोगियों को सुरक्षित रखने के लिए अच्छे संबंध स्थापित किए जाएंगे। भारत में भी जॉर्डन के विरोध में प्रदर्शन हुए हैं, जहां लोग इस हमले की निंदा की हैं और शोक में डूबे हुए हैं।

इसी के साथ ही, ब्रिटिश प्रधानमंत्री ने भी इरान सरकार से तनाव को कम करने के लिए आग्रह किया है। ब्रिटिश सरकार ने बताया है कि यहां तनाव को ख़त्म करके समाधान ढ़ूँढ़ा जाएगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि मानवाधिकारों की उल्लंघना बंद की जाएगी और भारत ईरान के पास मदद करेगा जहां उसकी ज़रूरत होगी।

READ  राजनीति गुरुओं की दुनिया: इस साल 6500 अमीर भारतीय छोड़ेंगे देश, चीन का और भी बुरा हाल... ये देश है पहली पसंद! - आजतक

इरान के विदेश मंत्रालय ने जवाब देते हुए कहा कि उन्हें इस हमले का कोई जिम्मेदारी नहीं है और इसे संघर्षरत समूहों द्वारा लिया गया है। इसके साथ ही, यह भी कहा गया है कि वे उस समूह का समर्थन करने के लिए निर्णय लेते हैं।

इस तरह के पिछले हमले के बाद इस घटना से संबंधित सभी देशों का ध्यान समेटा हुआ है। इसने बहुत सारे देशों में घबराहट और चिंता पैदा की है क्योंकि इसमें भागी सैनिकों के परिवार आदि भी शामिल हैं। हमें उम्मीद है कि इससे संघर्षरत समूह जिम्मेदारी उठाएंगे और इस बेपर्दा अपराध के पीछे जो भी रहस्यमय कारण हों, वे जल्दी से खोजे जाएंगें।

यह बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण हमला है और दुनिया को एकजुट होकर ड्रोन हमलों जैसे आक्रमणों के ख़िलाफ़ लड़ना होगा। हमें सुरक्षा मामलों में सतर्क रहना चाहिए और आपसी भरोसे की स्तर को बनाए रखना चाहिए। विश्व शांति और सुरक्षा के प्रतीक सैनिकों के प्रति हमेशा सम्मान में होना चाहिए।