मार्च 3, 2024

Rajneeti Guru

राजनीति, व्यापार, मनोरंजन, प्रौद्योगिकी, खेल, जीवन शैली और अधिक पर भारत से आज ही नवीनतम भारत समाचार और ताज़ा समाचार प्राप्त करें

उत्तरकाशी टनल बचाव: टनल में फंसे मजदूर कब निकलेंगे बाहर? सामने आया नवीनतम अपडेट, 19.2 मीटर – राजनीति गुरु

उत्तरकाशी टनल बचाव: टनल में फंसे मजदूर कब निकलेंगे बाहर? सामने आया नवीनतम अपडेट, 19.2 मीटर – राजनीति गुरु

पिछले दो सप्ताह से निर्माणाधीन सिलक्यारा सुरंग में 41 श्रमिक फंसे हुए हैं। इसके बावजूद, रविवार को सफलतापूर्वक सुरंग के ऊपर से वर्टिकल ड्रिलिंग की शुरुआत की गई है। यह एक महत्वपूर्ण कदम है क्योंकि अब तक 19.2 मीटर ड्रिलिंग कर चुकी है।

इस प्रक्रिया को अधिक धीमी करने के लिए, जब अमेरिकी ऑगर मशीन की ब्लेड टूटी, तो वर्टिकल ड्रिलिंग की शुरुआत की गई। कुल 86 मीटर की वर्टिकल ड्रिलिंग की जानी है इसमें 4 दिनों का समय लगेगा।

काम की प्रगति के बारे में जानकारी देते हुए, राष्ट्रीय राजमार्ग एवं अवसंरचना विकास निगम लिमिटेड (NHIDCL) के प्रबंध निदेशक, महमूद अहमद ने बताया है कि हॉरिजॉन्टल ड्रिलिंग कर रही ऑगर मशीन के ब्लेड टूटने से काम में रुकावट आई थी। इसलिए, ऑगर मशीन को निकालने के लिए प्लाज्मा कटर और लेजर कटर का उपयोग किया जा रहा है।

अब तक, केवल एक छोटी जगह से 8.15 मीटर हिस्सा निकला गया है। यह सुनिश्चित करने के लिए, अब श्रमिकों को अधिक मेहनत करनी होगी और दौड़ बढ़ानी होगी।

इसके अलावा, श्रमिकों को सुरक्षित रखने के लिए प्रशिक्षित आपातकालीन टीमें भी मौजूद हैं। वे निर्माण क्षेत्र में हमेशा तैनात रहती हैं और आपातकालीन स्थितियों का सामना करने में मदद करती हैं।

इस कठिनाई के बावजूद, सरकार और स्थानीय प्रशासन की ओर से मात्र 4 दिनों में काम को पूरा करने की उम्मीद है। यह एक सफल प्रयास होगा जो सुरंग वापस चालू होने के रास्ते की ओर बढ़ाने में मदद करेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रोजेक्ट ‘निर्माणशील भारत’ के अंतर्गत, यह प्रयास एक महत्वपूर्ण चरण है जो राज्य के विकास को बढ़ावा देने में मदद करेगा। यह सुनिश्चित करेगा कि लोगों को बेहतर सुविधाएं और सड़कों का नेटवर्क मिले।

READ  राजनीति गुरु: बिहार में बारिश का दौर कबतक चलेगा? जानिए 15 अगस्त तक आपके जिले में कैसा रहेगा मौसम

अगली सप्ताह से श्रमिकों के प्रयासों के बारे में अधिक जानकारी होगी जब आगे की प्रगति की जांच होगी। तब तक, हमें इन श्रमिकों का समर्थन करना चाहिए जो अपना काम जारी रख रहे हैं ताकि निर्माणशील भारत का सपना साकार हो सके।