गुजरात चुनाव की घोषणा से क्यों डर रहा आयोग : चिदंबरम

क्या सियासी डर और मोदी की कुछ लोक लुभावन योजनाओं की वज़ह से चुनाव आयोग तारीखों का एलान नहीं कर रहा ! क्या मोदी से पूछकर ये एलान किये जायेंगे | गुजरात की चुनावी तारीख की घोषणा में हो रही देरी पर कांग्रेस ने आयोग पर बड़ा हमला किया है | इससे पहले भाजपा सांसद वरुण गाँधी ने भी आयोग को नख-दन्त विहीन बताया था | पूर्व चुनाव आयुक्त ने भी कहा है कि आयोग की प्रतिष्ठा और विश्वसनीयता दोनों दांव पर है | सियासी दलों के बीच यह माना जा रहा है कि अपनी कमजोरी की वज़ह से भाजपा कुछ बड़े सपने दिखाने के चक्कर में है, इसलिए तारीखों के एलान में देरी हो रही है|

इस सवाल पर कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने चुनाव आयोग को निशाने पर लिया है | उन्होंने कहा है कि आयोग गुजरात चुनाव कार्यक्रम घोषित करने में देरी कर प्रधानमंत्री मोदी को अपनी अंतिम रैली में सारी चुनावी सौगातें बांटने के बाद चुनाव की तारीखें घोषित करने के लिए अधिकृत सा कर दिया है.

पूर्व गृहमंत्री ने यह भी दावा किया है कि गुजरात सरकार द्वारा सभी रियायतों और सौगातों की घोषणा करने के बाद अब चुनाव आयोग को उसकी लंबी छुट्टी से वापस बुला लिया जाएगा.
उन्होंने ट्वीट कर कहा, लगता है, चुनाव आयोग ने प्रधानमंत्री को उनकी अंतिम रैली में गुजरात चुनाव की तारीख घोषित करने के लिए अधिकृत किया. चुनाव आयोग ने 12 अक्तूबर को घोषणा की थी कि हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव नौ नवंबर को होंगे, लेकिन गुजरात चुनाव कार्यक्रम की घोषणा नहीं की थी.

आयोग ने अब जाकर कहा है कि गुजरात में चुनाव 18 दिसंबर से पहले होंगे. हिमाचल प्रदेश में 09 नवंबर को वोटिंग होगी, मगर नतीजे 18 दिसंबर को आएंगे. वोटिंग और काउंटिंग के बीच इतने दिनों के अंतर को लेकर कांग्रेस समेत विपक्षी दल पहले ही सवाल खड़े कर चुके हैं.
एक पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त ने भी कहा है कि गुजरात विधानसभा चुनाव की तिथि की घोषणा करने में देरी करके चुनाव आयोग की प्रतिष्ठा ख़त्म कर दी गई है. यह सालों से परंपरा रही है कि छह महीने के भीतर जिन राज्यों में चुनाव होता है, उनकी तैयारी और तिथियों की घोषणा चुनाव आयोग द्वारा एक साथ की जाती रही है.
उन्होंने आशंका जताई थी कि गुजरात विधानसभा चुनाव के तारीखों की घोषणा न किए जाने के पीछे का कारण यह दौरा हो सकता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभी बिना आचार संहिता का उल्लंघन किए हुए नई योजनाओं, पैकेज और कार्यों की घोषणा कर सकते हैं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *