भूख से हो रही मौतों पर कब जागेगा सिस्टम !

झारखंड में भूख से हो रही मौतों से लगता है सरकार कोई सीख लेने को तैयार नहीं है। सरकारी अधिकारियों की लापरवाही खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। पिछले दो सालों में झारखंड में दर्जन भर से ज्यादा मौंत सिर्फ भूख के कारण या कहें तो सिस्टम में व्याप्त खामियों के कारण हुई है। पर आश्चर्यजनक ये है कि सरकार की हो रही इस बदनामी के बाद भी सरकारी महकमा सुधरने का नाम नहीं ले रहा।
ताजा मामला धनबाद के निरसा विधानसभा क्षेत्र के ग्यारकुण्ड प्रखण्ड के पंचमोहली पंचायत की रहने वाली 65 वर्षीय बुजुर्ग मुनेश्वरी देवी का है। मुनेश्वरी देवी शरीर से लाचार है, लेकिन हैरानी की बात ये है कि उन्हें किसी भी प्रकार का सरकारी लाभ नहीं मिल पा रहा है।
जानकारी के अनुसार, मुनेश्वरी देवी के पति की दो दशक पहले मृत्यू हो गई थी। उनकी कोई संतान भी नहीं है। कुछ समय तक जब वो शारीरिक रूप से ठीक थीं तो किसी तर मजदूरी करके घरों में साफ-सफाई कर अपना पेट भरती थी। पर अब बुढ़ापे के कारण शरीर से काम नहीं हो पा रहा है।
इस बीच मुनेश्वरी देवी सरकारी बाबुओं से लेकर जनप्रतिनिधियों तक हर किसी से मिलीं और अपनी समस्या उनके समक्ष रखा पर कोई सुनवाई नहीं हुई।
जानकारी के अनुसार अब तक उनका राशन कार्ड भी नहीं बना है और न ही मुखिया कि ओर से कोई मदद मिली है। मुनेश्वरी के पास आधार कार्ड भी है, लेकिन इसका लाभ उन्हें अब तक नहीं मिल पाया है। वहीं पिछले चार माह से पेंशन की राशि उनके खाते तक नही पहुंची है।
पिछले दो दिनों से मुनेश्वरी देवी के घर में अनाज नहीं है अब वह भूखे पेट सोने को मजबूर हैं।
बहरहाल, बताया जा रहा है कि मामले की जानकारी होने के बाद धनबाद उपायुक्त ए दोड्डे बीडीओ को अविलंब पेंशन चालू करने और योजनाओं का लाभ देने का आदेश दिया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *