भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक, मिशन 2019 पर नजर

बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक आज यानी रविवार से शुरू हो रही है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव की रणनीति का तानाबाना बुनेगी। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में अभी डेढ़ साल शेष बचे हैं लेकिन बीजेपी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। इसलिए पार्टी ने इस राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी के सभी 281 लोकसभा सदस्य, राज्यसभा के 57 सदस्य, 1400 विधायक और विधान पार्षद, कोर ग्रूप के सदस्य, प्रदेश इकाइयों के अध्यक्ष और महामंत्री शामिल होंगे।

बीजेपी सूत्रों के मुताबिक 25 सितंबर को बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संबोधन खास होगा, जो कुछ राज्यों में विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव की दिशा तय करेंगे। वहीं बैठक में राजनीति प्रस्ताव पेश किया जाएगा। इसके अलावा एक आर्थिक प्रस्ताव भी पेश किया जा सकता है, जिसमें जीएसटी से आए आर्थिक बदलाव, नोटबंदी के कारण बदली परिस्थितियों का जिक्र हो सकता है।

गौरतलब है कि मिशन 2019 को फतह करने के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह लगातार अलग-अलग राज्यों का दौरा कर पार्टी कार्यकर्ताओं में नई ऊर्जा का संचार करने का प्रयास कर रहे हैं। हालांकि अमित शाह 2019 में 350 से ज्यादा सीटें लाने का दावा भी कर रहे हैं। बीजेपी पिछले एक साल से पंडित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी वर्ष मना रही है जो पिछले साल केरल के कोझिकोड में पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के दौरान तय हुई थी। बीजेपी सूत्रों का कहना है कि पार्टी दीनदयाल विस्तारक परियोजना की सफलता से उत्साहित होकर इसे और आगे बढ़ाने पर विचार कर रही है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक दो दिन की इस कार्यकारिणी की बैठक के पहले दिन रविवार को सुबह पार्टी पदाधिकारियों की बैठक होगी और उसके बाद पार्टी अध्यक्ष अमित शाह औपचारिक तौर पर कार्यकारिणी का उद्घाटन करेंगे। इसके बाद राजनीतिक प्रस्ताव पर चर्चा के अलावा इस साल होने वाले तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव की रणनीति पर भी चर्चा की जाएगी। इस साल कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश और गुजरात में चुनाव होने हैं। ऐसे में पार्टी तीनों राज्यों के नेताओं से फीडबैक लेगी और फिर वहां के लिए रणनीति फाइनल की जाएगी। माना जा रहा है कि इस बैठक में अगले साल छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान विधानसभा चुनाव पर भी चर्चा हो सकती है।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि दूसरे दिन उम्मीद है कि आर्थिक प्रस्ताव भी लाया जाएगा, जिसमें जीएसटी और नोटबंदी को लेकर सरकार का समर्थन किया जाएगा। कार्यकारिणी की बैठक का समापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण से होगा। माना जा रहा है कि इस भाषण का सीधा प्रसारण भी होगा और संभवत: पहली बार कार्यकारिणी के इस हिस्से में मीडिया को भी एंट्री दी जाए।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *