झूठ का पुलिंदा है ये बजटः हेमंत सोरेन

नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन ने बुधवार को विधान सभा परिसर में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार ने 23 जनवरी को जो बजट पेश किया है, इस बजट से यह स्पष्ट हो रहा है कि यह बजट झूठ का पुलिंदा है और सच को छिपाने वाला है। बिना आत्मा का है ये बजट। हर बार बजट पेश होता है और पूरे राज्य के लोगों को उम्मीद होती है कि राहत मिलेगी, लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है। ये बिना स्वाद का खाना है। कर शक्ति अब केंद्र के पास है। इससे ही सरकार की लाचारी और बेबसी दिखा रही है। झारखण्ड पहला राज्य है जहां देश में जीएसटी के लागू होने के बाद पहला बजट पेश किया गया है। उम्मीद थी कि बजट में बहुत कुछ परिवर्तन होगा, लेकिन राज्य की जनता और विपक्ष को निराशा हाथ लगी है। वैट नहीं लगने से राज्य को कितना नुकसान हुआ और जीएसटी लागू होने के बाद से कितना फायदा हुआ, यह सरकार को बताना चाहिए।

बजट एक झलक की किताब में दो बातें सामने आ रही हैं। वर्तमान वित्तीय वर्ष के 18400 करोड़ के बराबर का राजस्व बताया गया है। जो दर्शाता है कि स्थिति कितनी बूरी है। सरकार घोषणाएं कर रही है और अभी वर्ष ख़त्म होने में दो महीने बाकी हैं। कई योजनाएं बंद हो जाएंगी। बजट एक झलक में 44503 करोड़ रुपये खर्च की बात कही है और अब यह कहती है कि 43116 करोड़ ही खर्च होने हैं, मतलब 1516 करोड़ कम खर्च होंगे।
कृषि के क्षेत्र में वर्ष 2014 के ग्राफ में 17.62 प्रतिशत था और आज यह 15.76 प्रतिशत हो गया है। इससे किसानों को कुछ हाथ नहीं लगेगा। लघु एवं मध्य उद्योग को ऋण देने में कटौती की गयी है। ऐसे में किसान और छोटे व्यवसायियों को काफी नुकसान होगा और राज्य में आत्महत्या जैसी घटनाएं बढ़ेंगी।

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि अभी तक राज्य में 12.50 लाख परिवार मनरेगा से जुड़े हैं। जबकि 27000 परिवारों को ही 100 दिन का रोजगार मिला है। पेट्रोल डीजल की बात करें तो 28 प्रतिशत वैट अगर सरकार लगाती है तो भी पेट्रोल 40 रुपये से अधिक में नहीं मिलेगा। लेकिन सरकार मंच लगा कर लोगों को सपने दिखाने का काम कर रही है और गरीबों की गाढ़ी कमाई पर मौज कर रही है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सरकार विपक्ष का जवाब नहीं दे रही है। अगर सरकार अपने दायित्व के साथ काम करे तो विपक्ष सहयोगी के तौर पर खड़ी रहेगी। लेकिन मुख्यमंत्री शिबू सोरेन, हेमंत सोरेन का जाप कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मुंगेरी लाल के हसीन सपने देख रहे हैं और पदाधिकारी उन्हें टोपी पहना रहे हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *