SP अमरजीत और 6 पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में 2 दोषी करार, 5 बरी

शहीद एसपी अमरजीत बलिहार और छह अन्य पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में सात आरोपियों में से कोर्ट ने दो को दोषी करार दिया है। बाकी पांच को सबूत के अभाव में रिहा कर दिया। इस मामले में अब 26 सितंबर को सजा सुनाई जाएगी। इस मामले में सुखलाल उर्फ प्रवीर दा और सनातन बास्की को कोर्ट ने दोषी करार दिया है।

दुमका के चतुर्थ अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश तौफिकुल हसन की अदालत ने मामले में फैसला सुनाया। केस में बचाव पक्ष से चार अधिवक्ताओं ने बहस की जबकि सरकार की ओर से अभियोजन पक्ष के एपीपी सुरेन्द्र प्रसाद सिन्हा ने पक्ष रखा। इस मामले में कुल 31 गवाह के बयान रिकार्ड किए गए थे।

बता दें कि 2 जुलाई 13 को पाकुड़ के एसपी अमरजीत बलिहार दुमका में डीआईजी प्रिया दुबे द्वारा बुलाई गई मीटिंग में शामिल होने के बाद वापस पाकुड़ लौट रहे थे। अपराहन करीब तीन बजे नक्सलियों ने अमरजीत बलिहार के काफिले पर काठीकुंड में घात लगाकर हमला कर दिया जिसमें एसपी, उनके ड्राइवर और एक सिक्योरिटी गार्ड समेत छह पुलिसकर्मी शहीद हो गए। हमले में एक अन्य चालक समेत तीन पुलिसकर्मी घायल हुए। बताया गया कि नक्सलियों ने हमले की पूरी तैयारी कर रखी थी। पुलिस पर हमले के लिए लैंडमाइन भी बिछाई गई थी। दोनों तरफ से काफी देर तक फायरिंग हुई। जब एसपी का काफिला काठीकुंड की ओर से पाकुड़ की ओर बढ़ रहा था तब घने जंगलों में छिपे नक्सलियों ने काफिले पर चारों तरफ से फायरिंग शुरू कर दी। इस दौरान कई ब्लास्ट भी हुए जिससे सुरक्षाकर्मी चारों ओर से घिर गए। पाकुड़ एसपी अमरजीत बलिहार अदम्य साहस का परिचय देते हुए नक्सलियों से काफी देर तक लड़ते रहे। अंतत: जब उनकी रिवॉल्वर की गोलियां खत्म हो गई तो नक्सली उन्हें मोर्चे से खींचकर ले गए और बेरहमी से मारा डाला। यह आंखों देखी कहानी शहीद एसपी के घायल अंगरक्षक लोबेनियस मरांडी ने बयां की थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *