सोशल मीडिया का दांव उल्टा पड़ने लगा भाजपा को

दूसरे दलों को सोशल मीडिया के जाल में उलझाकर बाजी मारने वाली भाजपा अब इसी जाल में उलझती नज़र आ रही है। कई बार सोशल मीडिया की वज़ह से बेहद असहज स्थिति का सामना पार्टी को करना पड़ा है। अभी तक भाजपा डिजिटल की बेहद मंझी हुई खिलाड़ी मानी जाती है, इसका ट्विटर बेहद ही एक्टिव है और सोशल मीडिया पर भी इसके मैसेज लोगों को आकर्षित करते हैं। ट्रोलिंग में भी पार्टी का जवाब नहीं लेकिन पार्टी के लिए ऑनलाइन स्पेस में हो रही आलोचना और विरोध अब परेशानी बन गया है।

भाजपा ने अब तक सोशल मीडिया का इस्तेमाल लोगों की समझ को अपनी नीति मुताबिक ढालने के लिए किया है जिसका प्रभाव अब उल्टा हो रहा है। मसलन मोदी सरकार की नोटबंदी मुहिम को सोशल मीडिया में खूब उछाला गया। हालांकि इसके पहले सरकार को बहुत से मुद्दों पर खूब वाहवाही मिली।

विश्लेषक मानते हैं कि "भाजपा के लिए इस तरह की ट्रोलिंग को झेलना अपने आप में नया है लेकिन अब यह मुद्दा लोगों के बीच उठा है और अपनी पकड़ भी बना रहा है।" पिछले आम चुनावों में भाजपा ने अन्य राजनीतिक दलों की तुलना में सबसे अधिक सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया था। अपने पूरे चुनावी अभियान के दौरान भाजपा ने सबसे अधिक राजनीतिक ट्वीट और पोस्ट किए। यहां तक कि प्रधानमंत्री के टि्वटर पर तकरीबन 3.4 करोड़ फॉलोअर्स है। फॉलोअर्स के मामले में मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से बस थोड़ा ही पीछे हैं। लेकिन अब माहौल बीजेपी के लिए बदल रहा है।

सोशल मीडिया अब भाजपा के हितों को प्रभावित कर रहा है। सोशल मीडिया विश्लेषक बताते हैं कि "कुछ संगठन और समूहों ने अब भाजपा को निशाना बनाया है, जो पार्टी के लिए चिंता की बात है।" अब पार्टी आम लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रही है। साथ ही बीजेपी के लिए अपने दावों की पुष्टि करना मुश्किल हो गया है। वहीं इनकी ट्रोल विंग उदारवादियों को निशाना बनाती रहती है जिस पर भी अब लोग सवाल उठाने लगे हैं। जमीनी स्तर पर कुछ नजर नहीं आ रहा है इसलिए पार्टी के दावे लोगों को अब खोखले नजर आ रहे हैं।" इन दिनों सोशल मीडिया में चल रही जुमलेबाजी में मोदी सरकार की नीतियों और काम की खूब खिंचाई हो रही है। पार्टी के लिए सोशल मीडिया हैंडल करना आसान नहीं रहा।

इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह प्रदेश गुजरात में एक सोशल मीडिया कैंपेन अपने उफान पर है। इस प्रचार अभियान में विकास की "सनक" पर बात की जा रही है। विधानसभा चुनावों से महज दो महीने पहले लोकप्रिय हो रहा यह कैंपेन बीजेपी की नींद उड़ाने के लिए काफी है। राज्य में विधानसभा चुनाव सिर्फ दो महीने दूर हैं इसलिए बीजेपी किसी भी मसले पर जोखिम लेने के मूड में नहीं है। सोशल मीडिया पर भाजपा के विकास कार्यों और कार्यक्रमों का मजाक उड़ाते फोटो, जोक्स, वीडियो वायरल हो रहे हैं। बीजेपी की चिंता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के बयान में साफ नजर आती है। अमित शाह ने इस सोशल मीडिया कैंपेन पर निशाना साधते हुए कहा था "मैं युवाओं से अपील करता हूं कि वे व्हाट्सऐप और फेसबुक पर बीजेपी के विरोध में कही जानेवाली बातों पर विश्वास न करें।" उन्होंने कहा, "किसी भी निर्णय से पहले इस बात पर गौर करना होगा कि बीजेपी के सत्ता में आने से पहले गुजरात कैसा था और आज इसमें क्या बदलाव आया है।"

गुजरात में बीजेपी पिछले लंबे समय से सत्ता में है। लेकिन राज्य में बढ़ते दलित मामले और अन्य मुद्दों ने पार्टी की छवि को प्रभावित किया है। पार्टी को चिंता है कि उसकी बिगड़ती छवि देश के अन्य राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों पर भी असर डाल सकती है।साल 2018 में छत्तीसगढ़, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, राजस्थान और त्रिपुरा में चुनाव होने हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *