सिद्धारमैया ने चला हिंदू टेरर कार्ड का दांव

गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत का परचम लहराने के बाद बीजेपी का पूरा फोकस अब कर्नाटक फतह पर है. पार्टी आलाकमान से लेकर राज्य के नेता और कार्यकर्ता मिशन कर्नाटक मोड में आ गए हैं. राजनीतिक जानकारों की मानें तो दोनों पार्टियां के बीच अब कर्नाटक में आर-पार की लड़ाई हो रही है. इसी सियासी चाल के तहत मुख्यमंत्री सिद्धारमैया लगातार बीजेपी पर हमला बोल रहे हैं तो बीजेपी भी करारा पलटवार कर रही है. बुधवार को सिद्धारमैया ने कहा कि एनआइए लगातार पीएफआई को निशाना बना रही है, उनके 5 लोगों पर चार्जशीट दायर की गई है.

सिद्धारमैया ने कहा कि क्या सरकार पीएफआई को बैन कर रही है. अगर ऐसा है तो आरएसएस और बजरंग दल भी आतंकवादी हैं. कोई भी कानून से ऊपर नहीं है. उन्होंने कहा कि जो भी कानून का उल्लंघन करेगा उसे बख्शा नहीं जाएगा. चाहे वो आरएसएस हो, वीएचपी हो या फिर बजरंग दल. सिद्धारमैया के हमले के बाद बीजेपी ने भी पलटवार किया. बीजेपी कर्नाटक के ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया गया कि सिद्धारमैया चुनाव का ध्रुवीकरण कर रहे हैं. एक तरफ वो बीजेपी-आरएसएस को आतंकी संगठन कह रहे हैं दूसरी तरफ स्थानीय कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश बीजेपी पर बैन की मांग कर रहे हैं. बीजेपी की ओर से ट्वीट में लिखा गया कि उन्हें समझना चाहिए कि ये 1975 नहीं है और आज इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री नहीं हैं.

आपको बता दें कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने यहां पर परिवर्तन यात्रा की रैली में हिस्सा लिया. अमित शाह ने रैली में कहा कि सिद्धारमैया सरकार एंटी हिंदू है और वोटबैंक की राजनीति कर रही है. शाह ने कहा कि जो पैसा मोदी सरकार राज्य के विकास के लिए भेज रही है, वह कहां जा रहा है. शाह ने यहां बीजेपी की सरकार बनाने का आह्वान किया. गौरतलब है कि इससे पहले भी सिद्धारमैया और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के बीच ट्विटर वार सामने आई थी. प्रचार के लिए कर्नाटक पहुंचे योगी का सिद्धारमैया ने ट्विटर पर स्वागत किया था. उन्होंने लिखा था कि योगी को हमारे प्रदेश से कुछ सीखना चाहिए. जिसका योगी ने भी तीखे अंदाज़ में जवाब दिया था.

उन्होंने लिखा था कि मैंने भी कर्नाटक में किसानों की मौतों के बारे में सुना है जो आपके कार्यकाल में सर्वाधिक रही है. ईमानदार अधिकारियों की मौत और उनके ट्रांसफर का भी योगी ने जिक्र किया. योगी ने आगे कहा कि यूपी में मैं अपने सहयोगी दलों द्वारा किए गए अनैतिक कामों और भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए काम कर रहा हूं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *