मेघालय में कांग्रेस को झटका, 4 विधायक बीजेपी में शामिल

कांग्रेस की हाथ से एक के बाद दूसरा राज्य निकलता जा रहा है कहीं उनकी चुनावी रणनीति के कारण तो कहीं सियासी तालमेल में कमी के कारण। कांग्रेस आलाकमान भी डैमेज कंट्रोल पर विशेष फोकस नहीं कर पा रही है। जिसके कारण पार्टी को सत्ता गंवानी पड़ रही है। मेघालय में सत्तारूढ़ कांग्रेस को तगड़ा झटका देते हुए उसके वरिष्ठ विधायक एलेक्जेंडर एल हेक और तीन अन्य विधायक मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गए।

गौरतलब है कि मेघालय में इस वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं। हेक के अतिरिक्त विधानसभा के पूर्व उपाध्यक्ष सनबोर शुल्लाई (जो पिछले वर्ष तक राज्य में राकांपा के अध्यक्ष थे), दो निर्दलीय विधायक जस्टिन डखार और रोबिनस सिंगकोन शिलांग में एक रैली में पार्टी में शामिल हुए। उनके अलावा जयंतिया हिल्स ऑटोनॉमस डिस्ट्रिक्ट काउंसिल के सदस्य हैमर्बेटस नोंगतदू भी पार्टी में शामिल हुए।

केंद्रीय पर्यटन राज्यमंत्री केजे अल्फोंसे ने कहा कि पार्टी मेघालय से कांग्रेस को सत्ता से बाहर कर देगी। अल्फोंसे मेघालय में भाजपा के चुनाव प्रभारी भी हैं। पार्टी में नए सदस्यों का स्वागत करते हुए अल्फोंसे ने कहा, ‘‘सबसे ज्यादा भ्रष्ट सरकार को हम मेघालय (की सत्ता) से बाहर कर देंगे। श्रीमान मुख्यमंत्री आपके गिनेचुने दिन ही बचे हैं। यह तो महज शुरुआत है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आप पर (मेघालय वासियों) कांग्रेस ने शासन किया, उसने आपको वह नहीं दिया जिसके कि आप हकदार थे। आपके मंत्रियों ने आपका पैसा चुराया। इसे रोकना होगा।’’

भाजपा के पूर्वोत्तर के प्रभारी राम माधव ने रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘चार विधायकों के साथ नए वर्ष का आगाज। मुझे कोई संदेह नहीं है कि वे फिर से विधायक चुने जाएंगे।’’ इसे हेक के लिए घर वापसी बताते हुए माधव ने कहा, “भाजपा भारत का वर्तमान और भविष्य है और मेघालय का भविष्य भाजपा है।” वर्ष 1998, 2003 और 2008 में हेक ने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा था। वह 2009 में कांग्रेस में शामिल हो गए थे। इससे पहले विधायकों ने विस अध्यक्ष एटी मंडल को अपने इस्तीफे सौंपे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *