जेडीयू कूचे से निकाले जायेंगे शरद यादव

लम्बे समय से जेडीयू के अंदरखाने चल रहे शह और मात के खेल का अब पटाक्षेप होने ही वाला है। शरद यादव के बागी तेवर के बाद इस बात की भी अटकले लगाई जा रही है कि उनको जेडीयू से शीघ्र ही निकाला जा सकता है। जेडीयू के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद करने वाले शरद यादव की राजनीति को लेकर भी सवाल खड़े होने लगे हैं। तकनीकी रूप से अभी भी शरद यादव जेडीयू में ही हैं। लेकिन शरद नीतीश कुमार को लगातार चुनौती दे रहे हैं। लेकिन अब जेडीयू ने भी शरद के पर कतरने शुरू कर दिए हैं। शुक्रवार को जेडीयू के महासचिव केसी त्यागी ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को एक पत्र लिखा, जिसके बाद संकेत मिला कि शरद यादव को पार्टी से निकालने की और राज्यसभा से हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

जेडीयू के महासचिव केसी त्यागी ने भी स्पष्ट कर दिया है कि अगर शरद यादव ने लालू की रैली में शिरकत की तो उसी दिन उनका पार्टी से निकाला जाना तय है। जनता दल यू ने पटना के गांधी मैदान में आरजेडी की रैली में शरद यादव को भाग नहीं लेने की चेतावनी दी है। जबकि शरद यादव ने दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि वह आरजेडी की रैली में हर हाल में शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि यह आरजेडी की नहीं महागठबंधन की रैली है। जनता दल यू के राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता के सी त्यागी ने पार्टी के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव को पत्र लिखकर कहा है कि अखबारों में आरजेडी की रैली में आपके शामिल होने का बयान पढ़ कर आश्चर्य और दु:ख हुआ क्योंकि आरजेडी ने इस रैली का आयोजन अपने परिवार के लोगों के भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने के लिए किया है। उन्होंने कहा इस रैली में आपकी उपस्थिति से निश्चित होगा कि आपने न सिर्फ उच्च आदर्शों और सिद्धांतों के खिलाफ आचरण किया है बल्कि स्वेच्छा से जदयू का त्याग भी कर दिया है। अफसोस है कि आप पटना में ही समानांतर पार्टी विरोधी गतिविधियां संचालित करते रहे और आपने पार्टी के मंच को अपनी बात रखने का उपयुक्त मंच नहीं माना। ऐसे में आशा है कि आप नीति, सिद्धांत और आदर्शों को प्राथमिकता देते हुए भ्रष्टाचार बचाने के नाम पर आयोजित आरजेडी की रैली में शामिल होने से परहेज करेंगे।

वही 27 अगस्त को राष्ट्रीय जनता दल की पटना के गांधी मैदान में होने वाली “देश बचाओ, भाजपा भगाओ” रैली में शरद यादव शिरकत करेंगे। इस बात की जानकारी शुक्रवार को लालू प्रसाद यादव के दफ्तर से दी गई। लालू ने उन नेताओं की लिस्ट जारी की जिनका उनकी रैली में आने का कार्यक्रम तय है। लालू द्वारा जारी की गई लिस्ट में जिन राजनेताओं के आने की पुष्टि की गई है उनमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के अलावा जेडीयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और राज्यसभा सांसद शरद यादव का नाम है। इन नेताओं के अलावा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और डॉक्टर सीपी जोशी भी लालू की रैली में शामिल होंगे।

अब जबकि लालू प्रसाद यादव की तरफ से शरद यादव का उनकी रैली में शामिल होने की घोषणा हो चुकी है, बस अब इंतजार है 27 अगस्त का। इधर शरद यादव ने लालू की रैली में शिरकत की वहीं उनको जेडीयू से निकाला जाएगा।

गौरतलब है कि, पिछले हफ्ते जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा था है कि शरद यादव जो चाहें, करें। इसके लिए वह स्वतंत्र हैं, लेकिन उनसे कुछ होने वाला नहीं है। जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के बाद खुले अधिवेशन में नीतीश कुमार काफी मुखर होकर बोले। शरद पर तंज कसते हुए नीतीश ने कहा था कि जिनको भाजपा के वोट से राज्यसभा पहुंचाया था, वो आज हमें उपदेश दे रहे हैं। उन्होंने ने कहा कि पार्टी को तोड़ने के लिए दो तिहाई बहुमत जरूरी होता है। यदि उनके पास बहुमत है, तो वे जेडीयू को तोड़कर दिखाएं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *