फिर अपनी कहानी सुनाने बिहार आ रहे शरद

ये दो धाकड़ समाजवादियों की रगड़ा-रगड़ी है , जिसमे कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं दिखता | न ही जदयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव शांत बैठने वाले हैं और न ही वर्तमान अध्यक्ष नीतीश कुमार चुप रहने वाले | ये तो बिहार के सियासी लोग हैं जिन्हें हर बार शरद यादव से कुछ नया सुनने को मिल जाता है | अब फिर कुछ नया सुनाने और सुनने शरद बिहार आ रहे हैं | जनता से संवाद कार्यक्रम के तीसरे चरण की यात्रा की शुरुआत वह तीन नवंबर को पटना से करेंगे. यह यात्रा तीन दिनों तक चलेगी. इस दौरान वह बेगूसराय, खगड़िया, भागलपुर, मुंगेर, लखीसराय जिले में 30 से अधिक सभाओं को संबोधित करेंगे.

यात्रा के दौरान वह जगह-जगह लोगों से मिलेंगे और नीतीश कुमार के भाजपा में शामिल होने के बारे में चर्चा करेंगे. यह जानकारी शरद यादव गुट के नेता अर्जुन राय ने दी. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने महागठबंधन तोड़ दिया और भाजपा से मिलकर सरकार बना ली. जनता से किये करार को तोड़ा है, क्योंकि 2015 में बिहार विधानसभा चुनाव में लोगों ने महागठबंधन को वोट दिया था. देश के लोकतंत्र में इस तरह की यह पहली घटना है.

अर्जुन राय ने कहा कि शरद यादव के साथ मिलकर वह और उनके सहयोगी देश में महागठबंधन बनाने के प्रयास में लगे हैं. इसके लिए वह 20 से अधिक पार्टियों के संपर्क में हैं. उनके संपर्क में कई विधायक और सांसद हैं. वैसे ज्यों –ज्यों बात पुरानी पडती जा रही है, लोगों का शरद से मोहभंग होता जा रहा है | बिहार जदयू से शरद किसी विधायक को तोड़ भी नहीं पाये ऐसे में वो धीरे-धीरे समाजवादी शिक्षक बनकर रह जायेंगे जिनकी कोई सुनेगा नहीं | अगर शरद लालू ले साथ मिलकर कुछ सियासी हंगामा करें तभी बात बनेगी |

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *