एनडीए गठबंधन ‘डूबता जहाज’ हैः शरद यादव

मिशन 2019 को ध्यान में रखते हुए विपक्षी दलों की लामबंदी तेज होती जा रही है। एनडीए गठबंधन के खिलाफ मजबूत गठबंधन को लेकर लगातार कोशिश की जा रही है। हर संभव प्रयास किया जा रहा है कि इसे लोकसभा चुनाव से पहले इसे मूर्त रूप दिया जाए। इसी कोशिश के तहत जदयू के पूर्व सांसद शरद यादव ने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से बातचीत की और आगे की रणनीति पर काम करने की कवायद पर जोर दिया ताकि केंद्र में दोबारा बीजेपी को आने से रोका जा सके।

इस बातचीत के बाद उन्होंने एनडीए गठबंधन को ‘डूबता जहाज’ बताया है। उन्होंने कहा कि शिवसेना के बाद टीडीपी ने भी एनडीए का साथ छोड़ दिया है। जल्द ही एनडीए में कोई यहयोगी नहीं रहेगा। महागठबंधन को लेकर अखिलेश यादव से बातचीत के बाद उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ पर कई आरोप लगाए हैं। पूर्व सांसद ने योगी पर असंवैधानिक भाषा उपयोग करने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘साल 2019 के लोकसभा चुनाव में लोग उन्हें वास्तविकता दिखा देंगे।’ बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मतभेद के चलते पार्टी से अलग शरद यादव ने कहा कि वह भारत का संविधान के बचाने के लिए देशभर का दौरा कर रहे थे, ताकि महागठबंधन का खाका तैयार किया जा सके। पत्रकारों के एक सवाल के जवाब ने शरद यादव ने कहा कि वह जल्द ही बसपा सुप्रीमो मायावती से मुलाकात करेंगे।

इस दौरान शरद यादव ने मोदी सरकार पर वादा खिलाफी का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘किसानों की आत्महत्या बढ़ती जा रही हैं। करीब 26 हजार किसान और 500 बेरोजगार युवा आत्महत्या कर चुके हैं। नोटबंदी से करोड़ों लोगों की नौकरियां चलीं गईं। व्यापारियों का धंधा चौपट हो गया। खेती बर्बाद हो गई। लेकिन यहां के मुख्यमंत्री मंदिरों के चक्कर लगा रहे हैं। लव जिहाद को मुद्दा बनाया जा रहा है। जातिवाद को बढ़ावा योगी प्रशासन में दिया गया।’ बता दें कि इससे एक दिन शरद यादव ने अखिलेश यादव से मुलाकात की थी। इसपर सपा प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा, ‘दोनों के बीच विभिन्न मुद्दों पर करीब एक घंटा बातचीत हुई। इसमें मोदी सरकार की तानाशाही के खिलाफ संविधान बचाने के लिए सभी पार्टियों के एक साथ आने को लेकर भी बातचीत की गई।’

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *