शरद और अली अनवर पर गिर ही गई गाज

नीतीश कुमार के विरोध की गाज जदयू के वरिष्ठ नेताओं पर गिरने लगी है। शरद यादव को राज्यसभा में जदयू संसदीय दल के नेता पद से हटाने का पत्र पार्टी ने राज्यसभा के सभापति को सौंप दिया है। आरसीपी सिंह अब नए नेता होंगे। पसमांदा मुस्लिम महाज़ के अध्यक्ष और जदयू के राज्यसभा सदस्य अली अनवर पर पहले ही कार्रवाई शुरू हो चुकी है। यानि औपचारिक तौर पर जदयू में टूट शुरू हो चुका है।

बिहार में महागठबंधन सरकार टूटने के बाद शुरू हुआ राजनीतिक घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक तरफ जहां पार्टी के वरिष्ठथ नेता शरद यादव मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ सरकार बनाने के फैसले से नाराज होकर लगातार लालू की भाषा बोल रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वीर यादव ने जनता के बीच पहुंचने के लिए प्रदेश में 'जनादेश अपमान यात्रा' शुरू कर दी है।

इस बीच बिहार में जेडीयू और बीजेपी की गठबंधन सरकार का विरोध करने वाले जेडीयू सांसद अली अनवर पर पार्टी की गाज गिरी है और उन्हें संसदीय दल से निलंबित कर दिया गया है। जेडीयू के महासचिव के सी त्यागी ने कहा कि सांसद अली अनवर को संसदीय बोर्ड से निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने कहा, 'अनवर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा बुलाई गई विपक्षी पार्टियों की बैठक में शामिल हुए थे और इसी कारण पार्टी ने उनपर कार्रवाई की है।'

उल्लेखनीय है कि अनवर ने बिहार के सीएम नीतीश कुमार द्वारा महागठबंधन छोड़ बीजेपी के साथ सरकार बनाने का विरोध किया था। उन्होंने कहा था कि बिहार की जनता ने महागठबंधन की सरकार के लिए वोट दिया था। अनवर ने कहा था कि वह पार्टी फोरम में इस बारे में बात करेंगे। अनवर के साथ ही जेडीयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव ने भी नीतीश के इस कदम का विरोध किया था। इस कार्रवाई के बाद सांसद अली अनवर ने कहा कि जनता पूरी तरह हमारे साथ है। आज जो देश की नीतियां हैं, उसे कोई न कोई तो तोड़ेगा। इसके लिए किसी अली अनवर को तो सामने आना ही होगा। कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी ने विपक्षी पार्टी की एकजुटता को बनाए रखने के लिए शुक्रवार को विपक्षी पार्टियों की बैठक बुलाई थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *