वरिष्ठ नेता रखेंगे राजद को एकजुट

राजद प्रमुख लालू प्रसाद के जेल जाने के बाद संगठन को मजबूत व एकजुट करने की कवायद तेज हो गई है। पार्टी ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी के गठन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। लालू प्रसाद की हरी झंडी मिलते ही राष्ट्रीय कार्यकारिणी गठित कर उसकी सूची जारी कर दी जाएगी। 21 नवंबर 2017 को पार्टी के संगठन चुनाव में लालू प्रसाद 9वीं बार राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्वाचित किए गए हैं। पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी का गठन होना बाकी है। 5 जुलाई 1997 को पार्टी की स्थापना से लगातार वे राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं।

पार्टी के राष्ट्रीय कमेटी में वरिष्ठ नेताओं को प्रमुख जिम्मेवारी दी जाएगी। पार्टी सूत्रों के अनुसार संगठन में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव कोई पद नहीं संभाल संभालेंगे। हालांकि नेता प्रतिपक्ष होने के नाते वे कार्यकारिणी के पदेन सदस्य हैं। उनके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, विधायक तेज प्रताप यादव एवं राज्यसभा सांसद डॉ मीसा भारती प्रदेश राजद अध्यक्ष डॉ रामचंद्र पूर्वे भी पदेन सदस्य होंगे।

राजद के राष्ट्रीय कार्यकारिणी में 65 सदस्य होंगे। इनमे सांसद शहाबुद्दीन शामिल रहेंगे। पिछले राष्ट्रीय कार्यकारिणी में निर्धारित संख्या से दो कम 63 सदस्य थे। इस बार राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अधिकांश पूर्व कमेटी के सदस्यों को शामिल किया जाएगा। प्रस्तावित सूची के अनुसार राष्ट्रीय कमेटी में शिवानंद तिवारी, डॉ रघुवंश प्रसाद सिंह, मंगनीलाल मंडल, इलियास हुसैन को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राष्ट्रीय प्रधान महासचिव कमरे आलम व महासचिव जयप्रकाश नारायण यादव, सर्वजीत पासवान को बनाया गया है।

पार्टी के वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह राष्ट्रीय कमेटी में शामिल हुए बिना ही पार्टी के रणनीतिकारों में शामिल रहेंगे। पार्टी आवश्यकता अनुरूप राष्ट्रीय कार्यकारिणी में विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में भी कुछ नेताओं को शामिल कर सकती है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *