राबड़ी देवी की सुरक्षा वापस, खतरे में लालू परिवार!

राजद नेता और विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी की सुरक्षा में कटौती किये जाने को लेकर बिहार में सियासी पारा चढ़ गया है। सुरक्षा में कटौती किए जाने के बाद राबड़ी देवी भड़क गई हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी पर हमला बोला है। राबड़ी देवी ने कहा कि एक सोची-समझी साजिश के तहत मेरे आवास पर छापेमारी हुई। पीएम नरेंद्र मोदी अपने साथ सीबीआई लेकर आये थे। उन्होंने कहा कि आवास लेना चाहते हैं, तो आवास भी ले लें। लेकिन ऐसे लोगों से वे लोग डरने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि बिहार की जनता सबकुछ देख रही है वह ऐसे लोगों को माकूल जवाब देगी। राबड़ी देवी ने आरोप लगाया कि सरकार में बैठे लोग जान लेने की कोशिश में हैं अगर ये लोग जान भी लेना चाहते हैं तो ले लें। हमलोग जान देने को तैयार हैं।

राबड़ी देवी ने सत्ताधारी दलों पर आरोप लगाते हुए कहा कि लालू परिवार को खत्म करने की साजिश रची जा रही है। इस साजिश में नीतीश कुमार और सुशील मोदी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि रात के नौ बजे सुरक्षा में कटौती की गयी। लोग देखें कि यह सरकार क्या कर रही है। मुझे और मेरे परिवार को मारने की साजिश रची जा रही है। उन्होंने कहा कि दो चार सिपाही लेकर हम क्या करेंगें। हमें नहीं चाहिए सुरक्षा।

उधर, कहा जा रहा है कि आज सुबह योगदान देने आये सुरक्षा गार्डों को वापस लौटा दिया गया। सुरक्षा को लेकर उठे बवाल के बीच बिहार में एडीजी एसके सिंघल ने कहा था कि लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के सरकारी आवास से सुरक्षा वापस लेने का निर्णय विशेष शाखा की समिति ने लिया है। इससे पूर्व पहले मंगलवार की देर रात बीएमपी-2 के 32 कमांडो को पुलिस मुख्यालय ने वापस बुला लिया था। सुरक्षा में हुई कटौती के बाद बिहार में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव और पूर्व सीएम राबड़ी देवी ने बाडीगार्ड लेने से इंकार कर दिया है।

वहीं बताया जा रहा है कि राजद के नेताओं ने कहा कि अब लालू परिवार की सुरक्षा बिहार सरकार के सिपाही नहीं बल्कि राजद के कार्यकर्ता करेंगे। वहीं तेजस्वी यादव ने इस फैसले पर ट्वीट कर कहा था कि मेरी माता राबड़ी देवी जी ने पूर्व सीएम की हैसियत से प्राप्त सुरक्षा, मेरे भाई को विधायक के नाते और मुझे प्रतिपक्ष के नाते प्राप्त सुरक्षा को बिहार के सीएम नीतीश कुमार को वापस सौंप रहे हैं ताकि वो तुच्छ ईर्ष्यालु कार्य छोड़ सकारात्मक कार्यों पर ध्यान केंद्रित कर सकें।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *