‘SBI को पता था देश छोड़कर भागने वाला है विजय माल्या’

शराब करोबारी विजय माल्या के वित्त मंत्री अरुण जेटली को लेकर दिए बयान से जहां एक ओर देश की सियासत गरमा गई है वहीं दूसरी ओर बैंक क्षेत्र में भी हड़कंप मच गया है। माल्या के देश छोड़ने से पहले केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली से अपनी मुलाकात के बयान को लेकर विपक्ष बीजेपी पर निशाना साध रहा है तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी अपने आप को बचाते हुए माल्या के बयान से साफ मुकर गई है।

वहीं अब विजय माल्या को लेकर एक और बड़ी बात सामने आ रही है। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को सलाह दी थी कि विजय माल्या को विदेश जाने से रोका जा सकता है। हालांकि उस समय एसबीआई ने कानूनी सलाह पर कोई कार्रवाई नहीं की थी। दवे ने कहा कि उन्होंने विजय माल्या की फरारी से लगभग 24 घंटे पहले एसबीआई को माल्या का पासपोर्ट जब्त करवाने की सलाह दी थी।

इतना ही नहीं दवे ने यह भी दावा किया है कि उन्होंने बतौर एसबीआई वकील, माल्या को देश छोड़कर भागने से रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के लिए एसबीआई को सुप्रीम कोर्ट पहुंचने के लिए कहा लेकिन वह कोर्ट के बाहर इंतजार करते रहे और एसबीआई से कोई अधिकारी कोर्ट नहीं पहुंचा।

इन गंभीर आरोपों पर एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने सफाई देते हुए कहा है कि यह जरूरी नहीं है कि किसी हाई वैल्यू क्लाइंट का मामला चेयरमैन के सामने लाया जाए लिहाजा, ऐसे मामले में एसबीआई प्रमुख कुछ नहीं कर सकते। रजनीश कुमार के मुताबिक बैंक का चाहे कितना बड़ा क्लाइंट हो और कर्ज का मामला कितना भी गंभीर हो, इस काम के लिए बैंक की एक खास टीम है जो सभी फैसले लेती है।

हालांकि, रजनीश कुमार ने कहा कि उन्हें फिलहाल यह जानकारी नहीं है कि एसबीआई की पूर्व चेयरमैन अरुणधती भट्टाचार्या को विजय माल्या के फरार होने अथवा कर्ज की वसूली की कोशिशों की जानकरी थी या नहीं। रजनीश कुमार ने कहा कि वह बैंक में इस मामले से जुड़े दस्तावेजों के देखने के बाद ही बता सकते हैं कि पूर्व चेयरमैन को यह जानकारी थी कि नहीं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *