सांप्रदायिक शक्तियों का मंसूबा सफल नहीं होगाः राजद

6 दिसंबर 1992 को भाजपा ने बाबरी मस्जिद को ध्वस्त कर एक ओर जहां भारतीय संविधान को कलंकित किया, वहीं दूसरी ओर पूरे मुल्क के आपसी सद्भाव को बिगाड़ने का काम किया। इस घटना की निंदा जितनी भी की जाए वह कम है। ये बातें झाररखंड प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल का पूर्व महासचिव मनोज कुमार पांडेय ने बाबरी मस्जिद विध्वंस की 25 वीं वर्षगांठ के मौके पर कही। उन्होंने कहा कि यह मामला संवेदनशील है। इसलिए इससे जुड़े दोनों समुदाय के पक्षकारों सहित सभी समाजिक और राजनीतिक संगठनों को चाहिए की सभी न्यायालय का सम्मान करें और समस्या का हल न्यायालय पर ही छोड़ दें। बाबरी मस्जिद विध्वंस को पार्टी के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने काला दिवस के रूप में मनाया।

राजद नेता ने कहा कि यह अफसोस की बात है कि भाजपा आज भी राम मंदिर मुद्दे पर राजनीति कर रही है। प्रधानमंत्री मोदी हों या भाजपा अध्यक्ष अमित शाह किसी ने भी राम मंदिर निर्माण के मुद्दे को नहीं छोड़ा। भाजपा भले ही विकास की बात करे पर अभी संघ परिवार और उससे जुड़े संगठन दोनों समुदायों को धार्मिक आधार पर बांटने में लगे हुए हैं।

पूर्व राजद महासचिव ने कहा कि राजद किसी भी सूरत में भाजपा और संघ का मंसूबा पूरा नहीं होने देगा। देश में एक बार फिर ये सांप्रदायिक शक्तियां सिर उठा रही हैं । जो लोगों को मंदिर, मस्जिद के नाम पर आपस में लड़ाने, सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का काम कर रही है, उस पर अंकुश लगाने की जरुरत है। ताकि आपसी सौहार्द कायम रह सके।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *