रेणुका चौधरी मामले को लेकर कांग्रेस असमंजस में

पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा कांग्रेस की महिला सांसद रेणुका चौधरी की हंसी को लेकर की गई टिप्पणी के बाद हुआ विवाद खत्म नहीं हो रहा है। बीजेपी जहां एक ओर इस मामले से पल्ला झाड़ने के मूड में है तो वहीं कांग्रेस इसे मुद्दा बनाकर पीएम को घेरने का मन बना रही है। इन सब के बीच कहा जा रहा है कि कांग्रेस में ही इस मुद्दे को लेकर एकजुटता नहीं है। पार्टी के अंदर ही इस मामले को लेकर संसद में उठाने को लेकर असमंजस में दिख रही है। जानकारी के मुताबिक पार्टी की कुछ महिला सांसदों ने राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद के सामने इस मामले को अपर हाउस में उठाने की अपील की थी, जिसके बाद पार्टी ने दबाव में आकर इस मामले में राज्यसभा की कार्यवाही के दौरान गुरुवार को जमकर हंगामा किया था। महिला सांसदों का कहना था कि इस मामले में सभी को रेणुका के साथ खड़ा होना चाहिए।

जानकारी के अनुसार कांग्रेस के बहुत से नेता और मंत्री भी रेणुका चौधरी के मामले को खुलकर संसद में उठाने को लेकर असमंजस में हैं। इस मामले में महिला सांसद भी एकजुट नहीं हैं। पार्टी का मानना है कि अगर इस मामले की तरफ ज्यादा ध्यान दिया जाएगा तो राफेल डील को लेकर बीजेपी को घेरने की उनकी रणनीति प्रभावित हो जाएगी। पार्टी को लग रहा है कि वह बीजेपी के जाल में फंस गई है।

गौरतलब है कि बुधवार को पीएम मोदी ने बजट सत्र के दौरान पहली बार संसद को संबोधित किया था। वह जिस वक्त राज्यसभा को संबोधित कर रहे थे उस वक्त उनकी कोई बात सुनकर कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी ने जमकर ठहाका लगा दिया, जिस पर उपराष्ट्रपति और सभापति वेंकैया नायडू काफी नाराज हुए। वहीं नायडू के नाराज होने के बाद पीएम मोदी ने रेणुका की हंसी पर तंज कसते हुए कहा, ‘सभापति जी, मेरी प्रार्थना है आप रेणुका जी को कुछ नहीं कहें। रामायण सीरियल के बाद पहली बार ऐसी हंसी सुनी है।’ पीएम मोदी के कमेंट के बाद केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने फेसबुक पर इस टिप्पणी का एक वीडियो शेयर किया था, जिस पर नाराज होते हुए रेणुका ने विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाने की बात कही थी। उन्होंने इसे बेहद आपत्तिजनक करार दिया था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *