रामविलास ने की PM मोदी की वीपी सिंह से तुलना

एसटी, एससी एक्ट में संशोधन को लेकर देश की राजनीति एक बार फिर गरमा गई है। एक्ट के खिलाफ सवर्णों के गुस्से को देखते हुए बीजेपी बैकफुट पर आ गई है। कार्यकारिणी की बैठक में बीजेपी ने कहा है कि इस मुद्दे को लेकर विपक्ष जानबूझकर भ्रम की स्थिति पैदा कर रही है। वहीं अपने सवर्ण नेताओं को इसके लिए लोगों को समझाने को भी कहा है।

इन सब के बीच लोजपा प्रमुख और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने एससी/एसटी एक्ट के पुराने प्रावधानों की बहाली कराने पर पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ की है और कहा है कि इससे एससी-एसटी समुदाय में मोदी विरोध की लहर कम होगी। वहीं पासवान ने पीएम मोदी की तुलना पूर्व पीएम वीपी सिंह से की है, जिन्होंने मंडल कमीशन की सिफारिशों को लागू कर अन्य ओबीसी को नौकरियों में आरक्षण देने का फैसला किया था।
पासवान ने कहा, “हम कह सकते हैं कि देश की राजनीति में दो नेता- नरेंद्र मोदी और वीपी सिंह ही ऐसे हुए जिन्होंने संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव आंबेडकर के अधूरे कामों को पूरा किया है।” उन्होंने कहा कि अब लोगों की सोच बदल गई है।

बता दें कि वीपी सिंह ने 1990 में बीपी मंडल आयोग की सिफारिशों के आधार पर ओबीसी को आरक्षण देने का फैसला किया था। इसके विरोध में बीजेपी ने वीपी सिंह सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया था और वीपी सिंह की सरकार गिर गई थी। कहा जाता है कि तब वीपी सिंह ने कहा था कि भले ही उनकी टांग टूट गई हो लेकिन उन्होंने गोल कर दिया। ओबीसी आरक्षण लागू होने के बाद देशभर में जबर्दस्त विरोध का सामना करना पड़ा था और कई संगठनों ने राष्ट्रव्यापी विरोध-प्रदर्शन किया था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *