महाराष्ट्र नहीं, पूरे देश के किसानों की स्थिति है खराबः राहुल

केंद्र सरकार भले ही किसानों को लेकर कई योजनाओं के सुचारुरूप से क्रिन्यावयन की बात कह रही हो लेकिन देश भर के किसान आंदोलन का मूड बना चुके हैं। दिल्ली में अन्ना हजारे के नेतृत्व में तो वहीं महाराष्ट्र में माकपा के नेतृत्व में किसान आंदोलन कर कर रहे हैं। किसानों के मुद्दे पर अब विपक्ष भी मोदी सरकार के खिलाफ हमलावर हो चुका है। कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि किसानों की समस्या किसी एक राज्य तक सीमित नहीं है। यह मसला पूरे देश के किसानों का है। जिस प्रकार इस सरकार ने किसानों की समस्याओं से मुंह मोड़ लिया है उससे किसानों के पास आंदोलन करने के सिवाय कोई और विकल्प नहीं रह गया है। कांग्रेस पार्टी की ओर राहुल गांधी लंबे अर्से से किसानों के मुद्दों पर अपनी बात रखते रहे हैं।

किसानों का रुख़ देखते हुए महाराष्ट्र सरकार भी ऐक्शन में आ गई है। किसानों की मांगों पर विचार के लिए फडणवीस सरकार ने एक कमेटी बनाई है, जिसमें छह मंत्री शामिल हैं। कमेटी में चंद्रकांत पाटिल, पांडुरंग फुडकर, गिरीश महाजन, विष्णु सवारा, सुभाष देशमुख और एकनाथ शिंदे शामिल हैं। इससे पहले किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने अपनी तरफ से कैबिनेट मंत्री गिरीश महाजन को किसानों से बातचीत करने भेजा था जिन्होंने किसानों को अश्वासन दिया कि सरकार उनकी मांगों को लेकर सकारात्मक है। बता दें कि किसानों का मोर्चा आजाद मैदान पहुंच चुका है। इस महामोर्चा में 50 हजार किसान शामिल हैं। किसानों ने आज महाराष्ट्र विधानसभा का ऐलान किया है। इसके साथ ही महाराष्ट्र की राजनीति में भी हलचल मच गई है। मोर्चे के मुंबई पहुंचते ही कई राजनीतिक पार्टियों ने इस पदयात्रा का समर्थन भी किया।

ध्यान रहे कि भाकपा के किसान मोर्चे अखिल भारतीय किसान सभा एआईकेएस की अगुवाई में यह विरोध मार्च मंगलवार को नासिक से मुंबई के लिए रवाना हुआ था। हाथों में लाल झंडा थामे ये किसान ऑल इंडिया किसान सभा समेत तमाम संगठनों से जुड़े हैं। इस मार्च में किसानों के साथ खेतिहर मज़दूर और कई आदिवासी शामिल हैं। इनकी प्रमुख मांगों में कर्ज़माफी ले लेकर न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने और स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट को लागू करना शामिल है। किसानों का कहना है कि फडणवीस सरकार ने पिछले साल किया 34000 करोड़ का कर्ज़ माफी का वादा अब तक पूरा नहीं किया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *