एकजुट विपक्ष ने कर दिया रघुवर को फेल

-अब सलाहकारों की नकेल कसेंगे रघुवर दास

राज्यसभा चुनाव में 2 सीट जीतने का ख्वाब पाल रहे झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास की रणनीति को धक्का लगा है. रघुवर के रणनीतिकार आश्वस्त थे, वह आत्ममुग्ध थे, ओवर कॉन्फिडेंट थे. उन्हें लग रहा था कि पिछली बार की तरह इस बार भी साम दाम दंड भेद के चाणक्य फार्मूले से वह दोनों सीटें निकाल ले जाएंगे. कोयलांचल के धन्नासेठ भी पूरी ताकत लगा चुके थे. विपक्ष के विधायकों के सामने रसदार प्रस्ताव भी लगातार जा रहे थे, लेकिन कांग्रेस और झामुमो का नेतृत्व खबरदार था. वह NDA की हर चाल पर नजर रख रहा था और रघुवर भाजपा को उसी की चाल से हराना चाहता था, इसलिए जैसे ही अमित महतो और माले विधायक राजकुमार यादव के वोट को डिस क्वालीफाई कराने में NDA जुटा वैसे ही प्रकाश राम के बेवफा होते ही झाविमो ने चुनाव आयोग को उनका वोट रिजेक्ट करने का एप्लीकेशन दे दिया. काफी हो हल्ला हुआ.

रात में जब वोटिंग करा रहे एक अधिकारी की किसी बड़े नेता से फोन पर बात कराने की कोशिश की गई तो कांग्रेस ने तत्काल वह वीडियो बनाकर वायरल कर दिया. इसके बाद सरकार बैकफुट पर आ गई और रणनीतिकार विधान सभा से खिसक गए. इस संबंध में यह ध्यान में रखने लायक बात है की कांग्रेस के दो कमजोर विधायकों पर NDA की नजर थी, लेकिन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार ने पार्टी के सार्वजनिक मंच पर कड़ी कार्रवाई करने की बात करके ऐसे विधायकों को बैकफुट पर ला दिया. कांग्रेस और झामुमो एकजुट रहा. यह एकजुटता आने वाले दिनों में भाजपा पर भारी पड़ सकती है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *