अब दिनेश उरांव को सलटाने में जुटे मुखिया जी !

रघुवर सरकार की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं। अपने फैसलों से विपक्ष के निशाने पर रही सरकार को खुद अपने ही मंत्रियों ने घेरा है। अब इस कड़ी में एक और नया नाम जुड़ गया है दिनेश उरांव का। ऐसा माना जा रहा है कि पिछले कुछ हफ्तों से सरकार के मुखिया से वे खफा चल रहे हैं। अपनी नाराजगी वे कई मौकों पर व्यक्त भी कर चुके हैं। जानकारों की मानें तो गत शीतकालीनसत्र में जिस प्रकार सरकार के मुखिया ने विपक्ष को खुलेआम सदन में अपशब्द कहा और इसकी आपत्ति जताये जाने पर वे विधानसभा अध्यक्ष से उलझ गए। उस प्रकरण को दिनेश उरांव भूला नहीं पाये हैं और वे मुखिया जी की बे-अदबी का जवाब देने के लिए माकूल वक्त की तलाश में हैं।

इसीलिए, झाविमो से भाजपा में शामिल हुए 6 विधायकों के दल-बदल मामले पर विधानसभा अध्यक्ष ने अपना तेवर बदल लिया जिसके बाद आनन-फानन में दिल्ली आलाकमान तक दौड़ लगाई गई कि किसी भी प्रकार मामले को शांत कराया जाए। वहीं दल-बदल के आरोपी सभी विधायकों ने भी दिनेश उरांव के रुख से सीएम को परिचित कराया है। इन सब के बीच मंगलवार को दिनेश उरांव ने बजट सत्र के एक दिन पहले हुए परिसंवाद में राज्य के शीर्ष नेतृत्व को निशाने पर लिया और कहा कि अगर सदस्य मर्यादा और सीमा में रहकर बात करें तो अव्यवस्था को दूर किया जा सकता है। उन्होंने सदन में शालीनता से पेश आने की भी बात कही।

राजनीतिक जानकारों की मानें तो इस नए राजनीति डेवलपमेंट के मद्देनजर मामले को मैनेज करने का काम जोरशोर से किया जा रहा है। सीएम रघुवर दास के अचानक दिल्ली दौरे को इसी हलचल से जोड़कर देखा जा रहा है। उधर, दिनेश उरांव को कैबिनेट में एडजस्ट करने और उनकी जगह पर दलित चेहरे के तौर पर राधाकृष्ण किशोर या विमला प्रधान को बैठाने की खबरें भी आ रही हैं। कहा जा सकता है कि झारखंड का सियासी माहौल गर्म है और आनेवाले कुछ दिनों में सरकार में कुछ फेरबदल हो सकते हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *