BJP-TMC ने कहा, राम के नाम पर दे दो बाबा …

राम नाम की लूट है, लूट सको सो लूट...इस पंक्ति को आज पश्चिम बंगाल में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस ने सच कर दिखाया. राम नाम की सियासी लूट का अजब खेल पश्चिम बंगाल में राम नवमी के मौके पर कई जगहों पर दिखा. सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के बीच जमकर शक्ति प्रदर्शन हुआ. ये उस बंगाल में हुआ, जहाँ शायद ही कभी राम के नाम पर सियासी शक्ति प्रदर्शन होता था. मुख्यमंत्री ममता सरकार की स्पष्ट चेतावनी के बावजूद कई हिंदू संगठनों की तरफ से राम नवमी के मौके पर हवा में हथियार लहराने की तस्वीरें भी सामने आईं.

बंगाल के सिलीगुड़ी इलाक़े में राम मंदिर महोत्सव समिति के कार्यकर्ताओं ने राम नवमी के अवसर पर जुलूस निकाला. इस जुलूस में बड़ी संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया. इस दौरान हुजूम में शामिल ज्यादातर लोगों के पास हथियार दिखाई दिए. हाथ में भगवा झंडा लिए और सिर पर केसरिया रूमाल बांधे हुए सैकड़ों की तादाद में नौजवानों ने हवा में तलवारें लहराईं. बता दें कि तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी बीजेपी ने रामनवमी के अवसर पर राज्य के विभिन्न हिस्से में रैलियों का आयोजन किया और रंगारंग जुलूस निकाले. भारतीय जनता पार्टी ने इन रैलियों को बंगाल के 'हिंदुओं को एकजुट' करने की दिशा में पहला कदम बताया.

बीजेपी और संघ से जुड़े संगठनों की रैलियों के जवाब में तृणमूल कांग्रेस ने राज्य के विभिन्न हिस्सों में रंगारंग जुलूस निकाले और राम पूजा का आयोजन किया. सत्तारूढ़ दल ने कहा कि बीजेपी रामनवमी को राज्य के लोगों को बांटने में सफल नहीं हो पाएगी. राजधानी कोलकाता में संघ परिवार के सदस्यों की ओर से रामनवमी से संबंधित रैलियां आयोजित की गईं. भगवा झंडे और पोस्टरों से सजाए गए जुलूस निकाले गए. जुलूस में शामिल लोग भगवान राम की जय-जयकार करते दिखे.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *