क्रिसमस के होर्डिंग पर टंग रही झारखण्ड के मंत्री की सियासत

रघुवर सरकार की कैबिनेट मंत्री लुइस मरांडी क्रिसमस की बधाई देकर विवादों में फंसती नजर आ रही हैं। भाजपा के अंदरखाने कई वरिष्ठ नेताओं सहित कई अन्य हिन्दू संगठनों ने मंत्री लुइस मरांडी को आड़े-हाथों लिया है। इस नई फजीहत की वजह लुइस मरांडी के दुमका शहर में कई जगहों पर लगे वो होर्डिंग हैं जिसमें ईसा मसीह की तस्वीर के साथ भाजपा के वरिष्ठ नेता अटल बिहारी वाजपेयी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री रघुवर दास, प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ की तस्वीरें चस्पा हैं। हालांकि यीशु की फोटो लगाना किसी इसाई धर्मावलम्बी के लिए कोई गलत बात नहीं है लेकिन शायद लुईस मरांडी की पार्टी से जुड़े संगठन इस तथ्य को दरकिनार कर इतनी हाय तौबा मचा रहे हैं।

इस होर्डिंग को देखते ही कई हिंदू संगठनों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। ऐसे संगठनों का कहना है कि भाजपा हमेशा दोहरा चरित्र दिखाती है। लुइस मरांडी एक तरफ बासुकीनाथ मंदिर में पूजा करके हिन्दुओं की हितैषी बनती हैं, वहीं दूसरी ओर ईसाई धर्म का प्रचार-प्रसार करती हैं। उनकी यह राजनीति धर्मांतरण के मुद्दे को धक्का पहुंचाने वाली है। संगठन से जुड़े नेताओं ने आरोप लगाया है कि ईसाई मिशनरी संस्थाओं ने इलाके में आदिवासियों का शोषण किया है, और यह एक ऐतिहासिक तथ्य है। जिसके खिलाफ सिदो-कान्हू से लेकर बिरसा मुंडा तक ने अपना बलिदान दिया है।

इधर भाजपा और संघ के अंदर भी कई नेता लुइस मरांडी के भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के साथ ईसा मसीह की तस्वीर लगाने से क्षुब्ध हैं। उनका मानना है कि मंत्री ने ऐसा क्यों किया है। यह समझ में नहीं आ रहा है। जबकि वो भली-भांति पार्टी के स्टैंड से परिचित हैं। सूत्रों की मानें तो लुइस मरांडी के इस मामले को आलाकमान तक भी पहुंचा दिया गया है। जिससे लुइस मरांडी की परेशानियां बढ़ सकती हैं और वे दरकिनार भी की जा सकती हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *