पैराडाइज खुलासे में भाजपा सांसद आरके सिन्हा और जयंत सिन्हा समेत कई नाम

नोटबंदी के एक साल पूरे होने से पहले ही कालेधन और टैक्स चोरी पर एक बड़ा खुलासा हुआ है। पनामा पेपर्स के बाद अब पैराडाइज पेपर्स के जरिये विश्व के 180 देशों के कई अमीर और शक्तिशाली लोगों के गुप्त निवेश की जानकारी मिली है, जिसमें बीजेपी के राज्यसभा सांसद रवींद्र किशोर (आरके) सिन्हा और मंत्री जयंत सिन्हा सहित 714 भारतीयों के नाम शामिल हैं। भाजपा सांसदों के नाम सामने आने के बाद पार्टी में हडकंप है। सांसद आरके सिन्हा से जब इस बारे में मीडिया ने सवाल किया तो वो मौन हो गए।

एक बड़ी सिक्यूरिटी कम्पनी के मालिक आरके सिन्हा बिहार से राज्यसभा सदस्य हैं। दरअसल पैराडाइज पेपर्स उनके नाम होने के चलते जब मीडिया ने सवाल किया तो पहले तो उन्होंने सिर हिलाकर जवाब देने से मना कर दिया। इसके बाद पत्रकारों से एक पेन लेकर एक कागज में लिखा, 7 दिन के भागवत महायज्ञ में मौन व्रत है। मंत्री जयंत सिन्हा ने अभी आधिकारिक तौर पर कुछ नहीं कहा है।

2014 में बिहार से सांसद चुने गये आरके सिन्हा की गिनती पार्टी के अमीर नेताओं में होती है। इनकी कंपनी एसआईएस सिक्यॉरिटीज का नाम पहले भी विवादों में रहा है। दस्तावेज में स्पष्ट है कि इस कंपनी की विदेश में दो कंपनियां है। माल्टा रजिस्ट्री के रेकॉर्ड के मुताबिक एसआईएस सिक्यॉरिटीज की सहायक कंपनी एसआईएस एशिया पैसिफिक होल्डिंग्स (SAPHL)2008 में माल्टा में रजिस्टर्ड हुई। सिन्हा की पत्नी रीत किशोर इस कंपनी की डायरेक्टर हैं। इसी के साथ एसआईएस इंटरनैशनल होल्डिंग्स लिमिटेड (SIHL) ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह में शामिल है जिसके SAPHL में 3, 999,999 (करीब 40 लाख) शेयर हैं।

पैराडाइज पेपर्स में कुल 180 देशों के लोगों के नाम शामिल हैं जिसमें से भारत 19वें स्थान पर है। कुल 714 भारतीयों के नाम इसमें शामिल बताए जा रहे हैं। वर्तमान विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा के साथ महानायक अमिताभ बच्चन का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है। अभी इस खुलासे से जुड़ी 40 और रिपोर्ट्स आनी बाकी हैं। पैराडाइज पेपर्स से 18 महीने पहले पनामा पेपर के जरिए ऐसा ही खुलासा हुआ था। उसमें भी कई बड़े नेताओं के नाम सामने आए थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *