अब गुजरात रैली से विपक्षी दल दिखाएंगे दम

भाजपा के खिलाफ माहौल बनाने को लेकर पूरा विपक्ष एकजुट हो रहा है। ये लगातार कोशिश हो रही है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी को उनके ही गढ़ में पटकनी दी जाय। इस बीच विपक्ष ने ऐसी योजना बनाई गई है कि हर महीने विपक्षी दल कम से कम एक बार एक मंच पर जरूर मिलें। इसके तहत एक सितंबर को गुजरात में बड़ी रैली होगी। इसका आयोजन कांग्रेस कर रही है। रैली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत 18 विपक्षी दलों के भाग लेने का दावा किया जा रहा है। इससे ठीक पांच दिन पहले पटना में भी 27 अगस्त को आरजेडी की पहल पर संयुक्त विपक्ष की एक रैली हो रही है। गुरुवार को ही जेडीयू के बागी नेता शरद यादव की पहल पर दिल्ली में विपक्षी दलों के नेता जुटे थे।

हालांकि इस रैली में शरद पवार के नेतृत्व वाली एनसीपी के आने को लेकर संदेह है। दरअसल गुजरात राज्यसभा चुनाव में एनसीपी के दो विधायकों ने अहमद पटेल को वोट नहीं दिया था। इस बात से कांग्रेस में नाराजगी है। पार्टी के नेताओं को इस बात का भी डर है कि अगर 11 अगस्त को हुए राज्यसभा चुनाव की तरह यहां भी एनसीपी ने रैली का बॉयकॉट किया तो इससे रैली की योजना के पीछे के राजनीतिक संदेश को नुकसान पहुंच सकता है।

सूत्रों के अनुसार, गुजरात के वलसाड में एक सिंतबर को रैली होगी। कांग्रेस ने इस रैली को किसान सत्याग्रह का नाम दिया है। रैली में अब तक बीएसपी सुप्रीमो मायावती और जेडीयू के बागी नेता शरद यादव के भाग लेने की पुष्टि हो गई है। इसके अलावा अखिलेश यादव, ममता बनर्जी सहित बाकी विपक्षी दलों से भी कांग्रेस नेता संपर्क में है। कांग्रेस की ओर से अहमद पटेल इस रैली को कोऑर्डिनेट कर रहे हैं। गुजरात में इसी साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने भी हैं।

वहीं, पटना में लालू प्रसाद की पहल पर होने वाली रैली में कांग्रेस की ओर से कौन शामिल होगा, इस बारे में अभी अंतिम फैसला नहीं हुआ है। सूत्रों के अनुसार, सोनिया गांधी या राहुल गांधी में से कोई एक ही जाएगा। वहां राहुल के जाने की अधिक संभावना है। वहीं, कांग्रेस सहित कुछ राजनीतिक दलों ने आरजेडी से आग्रह किया है कि रैली से पहले बिहार में बाढ़ के हालात पर नजर बनाए रखें और अगले हफ्ते स्थिति में सुधार नहीं हुआ, तो इसकी तारीख बढ़ाने के विकल्प पर विचार किया जा सकता है। हालांकि, आरजेडी सूत्रों ने स्थिति पर नजर बनाए रखने की बात कहकर रैली की तारीख को आगे बढ़ाने की संभावना से इनकार किया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *