आरक्षण को कोई खत्म नहीं कर सकता: नीतीश कुमार

एसटी,एससी एक्ट में हुए संशोधन के मुद्दे पर एनडीए सरकार पूरी तरह घिर गई है। जहां एक ओर विपक्ष इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहरा रहा है वहीं दूसरी ओर विभिन्न राज्यों की एनडीए सरकारें भी निशाने पर आ गई हैं। बिहार में भी नीतीश कुमार की सरकार इसके घेरे में आ गई है। राजद सहित अन्य विपक्षी दलों ने मुख्यमंत्री को आड़े हाथों लिया है। बहरहाल, विपक्ष के दलित विरोधी मुहिम की गर्मी को ठंडा करने के लिए सीएम नीतीश ने घोषणा की है कि महादलितों की सारी सुविधाएं अब अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति वर्ग को मिलेंगी। इनके हर टोले में सामुदायिक शेड बनाया जायेगा। हरेक की लागत करीब 23 लाख रुपये होगी। दशरथ मांझी कौशल विकास योजना के तहत इन्हें घर बनाने के लिए आवास भूमि उपलब्ध करायी जायेगी। वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि चौकीदार और दफादार की सेवानिवृत्ति के चार महीने पहले नौकरी छोड़ने का आवेदन देने पर उनके आश्रित को नौकरी दी जायेगी। इनके पोशाक के लिए हर साल 3000 रुपये दिये जाते थे, अब इसकी जगह चौकीदार को 7000 और दफादार को 8000 रुपये दिये जायेंगे।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हर हाल में कानून का राज रहेगा। भ्रष्टाचार, अपराध और सांप्रदायिकता से समझौता नहीं किया जायेगा। आज तक न किसी को बचाया और न किसी को फंसाया है, कानून अपना काम करेगी। उन्होंने लोगों से अपील की है कि समाज के हर स्तर में जाकर प्रेम और सद्भाव का माहौल बनाएं। साथ ही हर घर में यह संदेश दें कि आरक्षण को कोई खत्म नहीं कर सकता।

अनुसूचित जाति और जनजाति के लिए बने छात्रावासों में रहने वाले छात्र-छात्राओं को बीपीएल वाली दर पर अनाज उपलब्ध करवाने की योजना पर विचार हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस कल्याणकारी योजना के अलावा उन्हें दी जानी वाली छात्रवृत्ति के अलावा अलग से कुछ राशि देने पर भी विचार हो रहा है। इसका मकसद उनकी पढ़ायी-लिखायी में ज्यादा आर्थिक मदद उपलब्ध करवाना है। बता दें कि डॉ भीमराव अंबेडकर जयंती पर दलित सेना के राष्ट्रीय अधिवेशन में मुख्य रूप से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, मंत्री पशुपति कुमार पारस, दलित सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचंद्र पासवान, सांसद चिराग पासवान, जदयू नेता अशोक चौधरी, लोजपा महासचिव श्रवण कुमार अग्रवाल, लोजपा प्रवक्ता अशरफ अंसारी सहित अन्य नेता मौजूद रहे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *