घोटाले से बचने के लिए नीतीश ने भाजपा की शरण ली : लालू

सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है। आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर घोटाला दबाने का आरोप लगाया है। लालू के बेटे और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव आज भागलपुर में एक सभा करने वाले थे लेकिन वहां धारा 144 लगा दी गई। अब इस मामले ने तूल पकड़ लिया है।

चारा घोटाला में सीबीआई के विशेष कोर्ट में हाजिर होने के बाद गुरुवार सर्किट हाउस में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान लालू यादव नीतीश कुमार पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा- नीतीश कुमार ने भागलपुर में महाघोटाला किया है। इसकी सीबीआई से जांच होनी चाहिए। भष्ट्राचार पर जीरो टॉलरेंस सब दिखावा है। नीतीश कुमार की सच्चाई एक-एक कर जनता के सामने आएगी। उन्होंने लोकतंत्र का गला घोंटाला है।
“नीतीश कुमार इस घोटाले से बचने के लिए बीजेपी की शरण में गए हैं।“ उन्होंने कहा, “नीतीश तेजस्वी की सभा से डर गए थे इसलिए उन्होंने वहां धारा 144 लगा दी।“

दरअसल भागलपुर के सबौर में जहां सृजन घोटाले का खुलासा हुआ था, वहां आज बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव की सभा होनी थी। लेकिन वहां धारा 144 लगा दी गई है। इस वजह से तेजस्वी की सभा नहीं हो पाई। इसको लेकर अब लालू यादव और उनकी पार्टी नीतीश सरकार पर हमला बोल रही है। आरजेडी का कहना है कि घोटाले को दबाने के लिए नीतीश ऐसी साजिश रच रहे हैं।

लालू ने आज एक के बाद एक ट्वीट कर नीतीश पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ”भागलपुर के जिस जगह सबौर में 2000 करोड़ का सृजन घोटाला हुआ, वहां आज तेजस्वी की सभा होनी थी लेकिन नीतीश ने डर के मारे रद्द करवा दी।” लालू ने आगे कहा, ”नीतीश कुमार तो कुछ जानता ही नहीं। 13 साल से मुख्यमंत्री है और 1000 करोड सरकारी ख़ज़ाने का रुपया NGO में चला गया। वाह.”

भागलपुर में सृजन एनजीओ घोटाला सामने आने के बाद अब भ्रष्टाचार के मुद्दे पर तेजस्वी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बीजेपी को घेर रहे हैं। सृजन घोटाले की जांच में अब तक 700 करोड़ रुपए के घोटाले की बात सामने आई हैं, जबकि आरजेडी का दावा है कि घोटाला 2500 करोड़ का है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *