सांप्रदायिक शक्तियों को परास्त करना जरूरीः सुबोधकांत

भुनेश्वर मेहता ने कहा, विचारों के आधार पर संघर्ष बदल सकता है युवाओं की किस्मत
ऑल इंडिया यूथ फेडरेशन की झारखण्ड इकाई के तत्वावधान में शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती के अवसर पर आज युवा कन्वेंशन का आयोजन किया गया। इसके मुख्य अतिथि भाकपा के राज्य सचिव भुवनेश्वर प्रसाद मेहता और मुख्य वक्ता एआइवाइएफ के राष्ट्रीय सचिव तापस सिन्हा थे।
कन्वेंशन का उद्घाटन करते हुए भाकपा के राज्य सचिव श्री मेहता ने कहा कि भगत सिंह न तो हत्या करने में और न ही हत्या करके भागने में विश्वास करते थे। वे मानते थे कि हत्या कर देने से समस्या का समाधान नहीं होने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि विचारों, खास कर मार्क्सवाद के आधार पर, वर्ग-चेतना के आधार पर होने वाला संघर्ष ही भारतीय जनता व युवाओं का किस्मत बदल सकता है।
इस मौके पर पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय ने कहा कि आज बहुत सारे लोग शहीदे-आज़म भगत सिंह को भूलने लगे हैं। लेकिन आपलोगों ने इन्हें याद करने का मौका दिया, इसलिए आप और आपका संगठन बधाई के पात्र हैं। उनका कहना था कि सांप्रदायिक शक्तियों को परास्त करके ही हम आगे बढ़ सकते हैं। उन्होंने देश की सामाजिक समरसता व सद्भाव की हिफाजत के लिए लड़ने की अपील की।
एआइवाइएफ के राज्य सचिव महेंद्र पाठक ने युवा कन्वेंशन को संबोधित करते हुए कहा कि आज नौजवानों के विपरीत परिस्थिति तैयार करने का काम पूरे देश व राज्य में हो रहा है। इसके खिलाफ नौजवानों को कमर बांध कर आगे बढ़ना है। श्री पाठक ने कहा कि मोदी व रघुवर सरकार ने जनता व नौजवानों को ठगा है। उन्होंने कहा कि ‘आयुष्मान भव:’ के राजनैतिक एजेंडे को हमारे नौजवानों ध्वस्त करेंगे।

झाविमो के महासचिव राजीव रंजन ने कहा कि क्रांति का अलख भगत सिंह ने जगाया। इनसे हम युवा इनसे प्रेरणा लेना चाहिए, उसमे कमी है। राज्य में अत्याचार व दमन के खिलाफ लड़ने के लिए इनके विचारधारा जरूरी है। आज अंग्रेजों की दलाली करने वाले लोग सत्ता में है, इन्हें हटाना है।

एआइवाइएफ के राष्ट्रीय सचिव तापस सिन्हा ने कहा कि नोटबन्दी व जीएसटी ने देश की अर्थव्यवस्था को कमजोर कर दिया। हमें देश की जनता के पास बात ले जाना चाहिए कि गोडसे के पूजने वाले आरएसएस-भाजपा के लोग देश व तिरंगा का सम्मान नहीं करते। इनके लिए देशभक्ति व तिरंगा वोट बटोरने का साधन मात्र है। हमारा हमारे विरोध मार्च पर कई बार आरएसएस-बीजेपी का हमला हुआ, मगर हम अपने प्रयास में सफल हुए। उन्होंने कहा कि हमसे हुए धोखाधड़ी को छुपाने के लिए तरह-तरह का झूठ प्रचारित किया जा रहा है।

कन्वेशन में अक्टूबर क्रांति के अवसर पर सभी जिला में कन्वेंशन करने और विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान मार्च करने का प्रस्ताव पारित किया। इस कन्वेंशन में अजय कुमार सिंह, विष्णु कुमार, प्रिया परबीन, रुचिर तिवारी, गौड़ रवानी, इसहाक अंसारी, ललन मिश्रा, केवला उरांव, तुलसी महतो, स्वयंवर पासवान, नेमन यादव सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *