मिशन 2019 के पहले सेमीफाइनल है निकाय चुनाव

सूबे में आगामी 16 अप्रैल को होने वाले नगर निकाय चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो गई है। सभी प्रत्याशी मतदाताओं को लुभाने के लिए खूब प्रयास कर रहे हैं। शहर के गली मुहल्लों में प्रत्याशियों के चुनाव प्रचार वाहन देखे जा रहे हैं। प्रत्याशी अपने-अपने समर्थकों के साथ डोर टू डोर प्रचार करने में जुटे हैं। रांची नगर निगम की बात की जाए तो महापौर के लिए जहां पांच प्रत्याशी हैं वहीं उपमहापौर के 19 प्रत्याशी हैं। कुल 284 पार्षद प्रत्याशी चुनावी मैदान में आमने-सामने हैं।

निगम क्षेत्र का परिसीमन होने के बाद वोटरों और प्रत्याशियों को यह परेशानी हो रही है कि उनका क्षेत्र कहां तक है। इसको लेकर कई प्रकार की उलझनें बनी हुई हैं। मालूम हो कि इस वर्ष निकाय चुनाव में 55 वार्ड क्षेत्रों की जगह 53 वार्ड क्षेत्र ही तय किये गए हैं। परिसीमन के आधार पर वार्ड संख्या के साथ-साथ पार्षदों का वार्ड क्षेत्र भी काफी बदल गया है। अधिकतर पार्षदों का 70 से 75 फीसदी हिस्सा दूसरे वार्ड में चला गया है। इसलिए पर्चा भरने के बाद से ही प्रत्याशी वोटर लिस्ट के आधार पर अपना क्षेत्र देख कर प्रचार-प्रसार प्रसार में जुटे हैं। सबसे अधिक परेशानी प्रचार वाहनों के चालकों को हो रही है। इस बार उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार के लिए पदयात्रा पर ही फोकस कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि आयोग के डंडे का डर प्रत्याशियों पर देखा जा रहा है। अहले सुबह से ही प्रत्याशी लोगों से संपर्क कर रहे हैं। वादों की झड़ी लगा रहे हैं। शहर का हर कोना चुनावी रंग में रंग गया है। मेयर और डिप्टी मेयर के साथ वार्ड पार्षद के उम्मीदवार भी चुनाव प्रचार में पूरा जोर लगाये हुए हैं।

वहीं रांची नगर निगम चुनाव को सभी दल 2019 के लोकसभा व विधानसभा चुनाव से पहले का सेमीफाइनल मान रहे हैं। लिहाजा सभी पार्टियों ने भी इस चुनाव में जीत दर्ज करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है।

कुल मतदाता- 8.09 लाख
पुरूष मतदाता- 4,29,713
महिला मतदाता- 3,79,426
वार्ड संख्या- 53
कुल मतदान केंद्र- 798
पीठासीन पदाधिकारियों की संख्या- 1030

नगर निगम चुनाव कार्य के लिए दस हजार कर्मियों में से 84 लोगों को चुनाव कार्य से मुक्त कर दिया गया है। दरअसल इनमें से 70 ऐसे कर्मी हैं जिन्हें डबल ड्यूटी के कारण हटाना पड़ा। वहीं कई शिक्षक ऐसे हैं जिन्हें एग्जाम ड्यूटी में लगाया गया है, फिर भी इनका नाम कार्मिक कोषांग को मिल गया था। इन्होंने आवेदन देकर अपना नाम हटा लिया है। वहीं कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से पीड़ित 14 कर्मियों को चुनाव कार्य से हटा लिया गया है। रांची नगर निगम चुनाव में रौशनी खलखो निर्विरोध पार्षद चुनी गईं। वार्ड 19 से उन्होंने नामांकन भरा था। उनके खिलाफ कोई भी उम्मीदवार खड़ा नहीं हुआ। एक मात्र उम्मीदवार होने के कारण रौशनी खलखो को विजेता घोषित कर दिया गया। 27 मार्च को रौशनी खलखो को समाहरणालय में प्रमाण पत्र भी दे दिया गया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *