मोदी का राष्ट्रवाद संविधान को नकारता है : शिवानंद

राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि सुशील मोदी पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ की जीत को राष्ट्रवाद की जीत बता रहे हैं. राष्ट्रवाद की उनकी परिकल्पना हमलोगों से भिन्न है. सुशील जी के राष्ट्रवाद का आधार हिंदुत्व है. इसका दार्शनिक आधार मनुस्मृति है. मनुस्मृति हिंदू समाज के वर्णव्यवस्था का समर्थक तथा पोषक है.

हमलोगों का राष्ट्रवाद भारतीय संविधान पर आधारित है. यह भारत देश के तमाम नागरिकों को बराबरी का अधिकार देता है. चाहे वे किसी धर्म, जाति, लिंग, भाषा या क्षेत्र के निवासी क्यों न हो. हमारा संविधान हमें वोट का अधिकार देता है. जाति व्यवस्था के कारण सदियों से वंचित तबक़ों को विशेष अवसर के सिद्धांत के तहत आरक्षण की व्यवस्था प्रावधान करता है.

सुशील मोदी का राष्ट्रवाद उन सब चीज़ों को नकारता है जिसका प्रावधान हमारा संविधान करता है. इसीलिए सुशील और उनकी जमात के लोग हमारे संविधान को बदलने की मांग करते हैं. इनके सहयोगी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से संविधान बदलने के अभियान के सहयोगी हैं. इनसे सचेत रहने की ज़रूरत है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *