Fodder Scam: लटक रही है कई और केसों की तलवारें

अपूर्व परासर

लालू यादव की मुश्किलें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही हैं। वर्ष 1996 में दर्ज चारा घोटाले से जुड़े चाईबासा कोषागार के केस संख्या (68A/9 6) जिसमे 33.67 करोड़ रुपये की अवैध निकासी का मामला है, में लालू समेत बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ जगन्नाथ मिश्र को अदालत ने दोषी करार देते हुए पांच वर्ष की सश्रम कैद की सजा सुनाई। दोनों पर दस-दस लाख का जुर्माना भी लगाया है। जुर्माने की राशि जमा नहीं करने पर एक साल अतिरिक्त सजा काटनी होगी।

रांची की सीबीआई कोर्ट के जज ए एस एस प्रसाद कर रहे थे सुनवाई।

जज ए एस एस प्रसाद ने बुधवार को इस मामले में लालू समेत 50 आरोपितों को दोषी करार देते हुए सजा सुनाई हैं।

अब तक तीन मामले में मिल चुकी है सजा

लालू को चारा घोटाले के तीन मामले में सजा मिली है।

1. चाईबासा कोषागार से केस संख्या 20A/96 के अंतरगत 3 अक्टूबर 2013 को 37.7 करोड़ रुपये के अवैध निकासी में 5 साल की सजा।

2. देवघर कोषागार से केस संख्या 67/9 के अंतरगत 89.04 लाख रुपये के अवैध निकासी से 6 जनवरी 2018 को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई।

3. चाईबासा कोषागार से केस संख्या 68A/96 के अंतर्गत 33.67 करोड़ रुपये के अवैध निकासी में 24 जनवरी 2018 को 5 साल की सजा सुनाई गई।

तीन और मामले में अभी चल रही है सुनवाई

1. दुमका कोषागार से 3.13 करोड़ की अवैध निकासी मामला जो केस संख्या 38A/96 दर्ज है कि सुनवाई रांची की सीबीआई अदालत में चल रही हैं।

2. डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ की अवैध निकासी मामला जो केस संख्या 47/96 दर्ज हैं कि सुनवाई रांची की सीबीआइ अदालत में चल रही हैं।

3. भागलपुर-बांका कोषागार से 46 लाख की अवैध निकासी हुई। केस संख्या 63A/96 की सुनवाई पटना के सीबीआई अदालत में चल रही हैं।

कुछ प्रमुख नेता जिन्हें सजा मिली

डॉ जगन्नाथ मिश्रा समेत जगदीश शर्मा और डॉ आर के राणा को 5-5 साल की कैद और 10-10 लाख का जुर्माना लगाया गया वहीं विद्यासागर निषाद और ध्रुव भगत को 3-3 साल की कैद और 1.5-1.5 लाख का जुर्माना लगाया गया।

नेता प्रतिपक्ष व लालू के सुपुत्र तेजस्वी इस फैसले से काफी निराश है और कहा कि "लालू प्रसाद को सजा सुनाने वाली अदालत अंतिम अदालत नहीं है। हम ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे"।

अब तक तीन मामले में साढ़े तेरह साल की सजा

लालू प्रसाद को अब तक चारा घोटाले के तीन मामले में साढ़े तेरह साल की सजा हो चुकी हैं। रांची हाइकोर्ट के अधिवक्ता श्री बी के दुबे ने बताया कि लालू को दो मामले में पांच-पांच और एक मामले में साढ़े तीन साल की सजा हुई हैं। सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी। लालू को अभी तक अधिकतम 5 वर्ष की सजा हुई है जो उन्हें काटनी होगी।

इस मामले में 6 आरोपियों को बरी किया गया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *