विशेष राज्य बनाने की बात कैसे भूल गए नीतीशः लालू

टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू द्वारा आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने पर बीजेपी से दोस्ती तोड़ने के बाद सियासत तेज हो गई है। बिहार में भी विशेष राज्य के दर्जा को लेकर चर्चा तेज हो गई है। विपक्ष ने सीएम नीतीश कुमार को घेरना शुरू कर दिया है। राजद सुप्रीमो लालू यादव ने सवाल उठाया है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार को विशेष राज्य बनाने की बात कैसे भूल गए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दे दिया था, लेकिन नीतीश कुमार ने अपनी राजनीति चमकाने के लिए उन्हें ऐसा करने से रोक दिया था।

चारा घोटाला मामले में दोषी लालू यादव के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से किए गए ट्वीट में कहा गया है, '2003 में तत्कालीन प्रधानमंत्री वाजपेयी जी पटना आए थे। मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने बिहार को विशेष राज्य के दर्जे की मांग पुरजोर तरीके से तथ्यों के साथ उनके सामने रखी। वाजपेयी साहब सहमत हो गए चूंकि उन्होंने ही 2001 में बिहार का बंटवारा किया था। इसलिए उन्हें जानकारी थी लेकिन...' अपने अगले ट्वीट में लालू ने लिखा है, 'लेकिन एयरपोर्ट वापस जाने के क्रम में रेलमंत्री नीतीश वाजपेयी जी की कार में लटक लिए। उन्होंने कहा अगर आप बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दे देंगे तो हमारी राजनीति चौपट हो जायेगी और कभी भी हमारी सरकार नहीं बनेगी। इस तरह नीतीश की संकीर्ण और नकारात्मक सोच की वजह से बिहार का हक मारा गया।’

वहीं लालू प्रसाद ने नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा कि आखिर नीतीश अपने बॉस को बोल कर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्यों नहीं दिलवाते? लालू के ट्विटर हैंडल के माध्यम से कहा गया कि नीतीश केंद्र सरकार पर दबाव क्यों नहीं बनाते ताकि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिल जाए? उन्होंने ट्वीट में पूछा कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नीतीश नहीं दिलाना चाहते या फिर बीजेपी नहीं चाहती? लालू ने कहा, ‘'छुपन-छुपाई छोड़ बिहार की जनता को स्पष्ट बताओ? किस वजह और किसकी वजह से विशेष राज्य का दर्जा नही मिल रहा?’

उन्होंने कहा ‘'नीतीश बिहार की जनता को बताएं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विशेष पैकेज के नाम पर 1 लाख 65 हज़ार करोड़ रुपये की बिहार की 'बोली' लगाई थी उसमें से कितनी चवन्नी मिली? ढेला नहीं मिला ढेला.. हिम्मत है तो बताओ? कितना मिला? कब तक गुमराह करोगे?’

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *