डॉक्टरों को प्रबंधन की जिम्मेदारी से अलग रखें : रघुवर दास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के सभी बड़े अस्पतालों में प्रबंधन को अलग करें। रिम्स की तर्ज पर दोनों मेडिकल कॉलेज एवं सदर अस्पतालों में भी प्रबंधन और चिकित्सक का काम अलग होगा। चिकित्सक केवल मरीजों का इलाज करेंगे। सीएम ने जोर देते हुए कहा कि अस्पताल का प्रबंधन देखने का काम अलग किया जाए और इसके लिए अलग से उपयुक्त लोगों की भरती करें।

सीएम ने आज मंत्रालय में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की परियोजनाओं की समीक्षा के दौरान स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि इससे अस्पतालों में न सिर्फ चिकित्सा सुविधाएं बेहतर होंगी बल्कि चिकित्सकों के सिर से अतिरिक्त काम का बोझ भी कम होगा। इससे वे मरीजों का ठीक से इलाज कर पाएंगे। उन्होने इसके साथ ही राज्य में खून की उपलब्धता बढ़ाने के लिए एक दिन राज्यस्तरीय रक्तदान शिविर का आयोजन करने की बात कही।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि राज्य के आकांक्षी जिलों में चिकित्सा सेवा को प्राथमिकता की सूची में रखें। इनमें भी जो छह अति पिछड़े जिले हैं, उनपर ज्यादा ध्यान दें। बच्चों व महिलाओं को लिए चिकित्सक बढ़ायें। चिकित्सकों की कमी को पूरा करने के लिए मेडिकल कॉलेजों से कैंपस सेलेक्शन करने का निर्देश दिया। आयुष चिकित्सकों की नियुक्ति पंचायत स्तर पर करने को कहा। राज्य के सात जिलों में अभी ब्लड बैंक नहीं हैं, उन जिलों में जल्द से जल्द ब्लड बैंक खोलने को कहा। लावारिश शवों के दाह संस्कार करनेवाली संस्थाओं को आर्थिक सहायता के रूप में 1000 रुपये प्रति शव प्रोत्साहन राशि देने का निर्देश दिया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *