मेगा फूड पार्क की नीलामी कर हो रहा भ्रष्टाचार: JMM

झामुमो के महासचिव सह प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा है कि मेगा फूड पार्क के नीलामी की तैयारी हो रही है। इससे राज्य के अधिकारियों की कार्यशैली पर कई सवाल उठ रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की फूड प्रोसेसिंग मिनिस्ट्री ने झारखंड के फल उत्पादकों, सब्जी उत्पादकों, दुग्ध उत्पादकों और मधु उत्पादकों के सर्वांगीण विकास के लिए फरवरी 2009 में मेगा फूड पार्क की योजना को क्रियान्वित किया ताकि उत्पादकों को उनके उत्पादों के उचित प्रोसेसिंग के बाद राष्ट्रीय फलक पर बाजार उपलब्ध हो सके। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार के उद्योग विभाग के वरिष्ठ अधिकारी इस परियोजना को किसानों के लिए नहीं बल्कि अपने फायदे के लिए तरह तैयार करवाना चाहते थे। इस मेगा फूड पार्क परियोजना का निर्माण कार्य पूरा हो चुका था। लेकिन इसका आवंटन किसी भी किसान या उनके सहयोग समितियों को नहीं किया गया।

झामुमो प्रवक्ता ने आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य के उद्योग निदेशालय ने भारत सरकार एवं राज्य सरकार को फर्जी जानकारियां दी और मुख्यमंत्री एवं केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर के द्वारा 15 फरवरी 2016 को उद्घाटन करवा दिया। इस काम को सरकार ने खूब बढ़ा-चढ़ाकर सार्वजनिक मंच पर पेश किया और उसकी वाहवाही लूटी। मुख्यमंत्री जो उद्योग मंत्रालय के प्रभार में भी हैं उन्होंने यह जानने की कोशिश भी नहीं की कि मेगा फूड पार्क की ओर से राज्य के एक राष्ट्रीयकृत बैंक से लगभग 40 करोड़ रुपए का कर्ज लिया गया है उसकी अदायगी न होने पर बैंक द्वारा उसके नीलामी की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि मेगा फूड पार्क के नीलामी की प्रक्रिया का मुख्य उद्देश्य भारतीय प्रशासनिक सेवा के दो पूर्व उच्च पदाधिकारियों के करीबी को इसका संचालन सौंपकर राज्य के राजस्व को भारी क्षति पहुंचाना और अपनी जेब भरना है।

उन्होंने कहा कि राज्य का कैबिनेट प्रशासनिक पदाधिकारियों के भंवरजाल में बुरी तरह फंस चुका है। और उनके द्वारा गलत जानकारियां दी जा रही हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी मांग करती है कि वर्तमान उद्योग विभाग के प्रधान सचिव, निदेशक सहित सभी उच्च पदाधिकारियों के कार्यों की न्यायिक हो वहीं, पार्टी इस भ्रष्टाचार को रोकने के लिए मुख्यमंत्री से मांग करती है। सरकार मेगा फूड पार्क अविलंब राज्य के किसान समूहों के सहयोग समिति गठित कर उसे हस्तांतरित करे और उन्हें इसके संचालन की जिम्मेदारी सौंपे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *